जहरीली शराब से मौतों पर लालू भड़के:बोले- मुख्यमंत्री नीतीश दो शब्द संवेदना के भी प्रकट नहीं करेंगे, शराब माफिया नाराज हो जाएगा

पटना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लालू प्रसाद यादव (बाएं) और CM नीतीश कुमार। - Dainik Bhaskar
लालू प्रसाद यादव (बाएं) और CM नीतीश कुमार।

बिहार की नीतीश सरकार ने शराब पर पूर्ण पाबंदी लगा रखी है, लेकिन उपचुनाव के बाद कई जिलों से जहरीली शराब से मौत की खबरें आ रही हैं। मुजफ्फरपुर, गोपालगंज और बेतिया में लोगों की मौत जहरीली शराब से हुई है। अवैध शराब लोगों तक पहुंच रही है। इस पर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद का गुस्सा नीतीश सरकार पर भड़क गया।

लालू प्रसाद ने कहा कि बिहार की नीतीश-भाजपा सरकार ने महंगाई-बेराजगारी से जनता का दिवाला निकालने एवं निवाला छीनने के साथ ही पिछले सप्ताह शराब से 50 से अधिक लोगों की जान ली है। मुख्यमंत्री दो शब्द संवेदना के भी प्रकट नहीं करेंगे। क्योंकि, इससे उनके द्वारा संरक्षित शराब माफिया नाराज हो जाएगा।

शराबबंदी के बाद से 125 की जान गई

किसी की सनक से कागजों पर शराबबंदी है
नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने एक वीडियो शेयर करते हुए ट्विटर पर लिखा है कि इन चीखों का गड़बड़ डीएनए वाली एनडीए सरकार और तीन नंबरिया पार्टी के मुखिया पर कोई फर्क नहीं पड़ता। जहरीली शराब से बिहार में दिवाली के दिन सरकार द्वारा 35 से अधिक लोग मारे गए। हां... किसी की सनक से बिहार में कागजों पर शराबबंदी है, अन्यथा खुली छूट है। क्योंकि, ब्लैक में मौज और लूट है।

बिहार में 23 की मौत, जहरीली शराब पीने की आशंका

ट्विटर पर मुख्यमंत्री ने दी दिवाली की शुभकामना
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ट्विटर पर लोगों को दिवाली की बधाई देते हुए इसे अज्ञान पर ज्ञान और बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक कहा। अन्य ट्वीट में उन्होंने डीजल और पेट्रोल की कीमत में राहत की बात की पर शराब से हुई मौत पर कुछ नहीं कहा। लालू प्रसाद का गुस्सा इसी बात से है।

शराबबंदी की आलोचना करके माफिया को मजबूती देने में लगा है विपक्ष- भाजपा
भाजपा प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि शराबबंदी की सराहना सभी कर रहे हैं। महिलाओं और कमजोर तबके के लोगों को लाभ भी मिला है। जहां तक मौत का सवाल है तो इसमें माफिया सक्रिय हैं और उनके खिलाफ सरकार कार्रवाई कर रही है। अफसरों पर भी कार्रवाई हुई है। बड़ी संख्या में लोग जेल भेजे गए हैं। शराबबंदी के मामले में सरकार की आलोचना करके विपक्ष माफियाओं को मजबूती देने का काम कर रहे हैं। लालू प्रसाद या तेजस्वी यादव को यह बात समझनी चाहिए।

बेतिया में 10 की मौत, जहरीली शराब पीने की आशंका