बिहार विधानसभा में वंदे मातरम् पर तनातनी:ओवैसी की पार्टी के MLA ने राष्ट्रगीत पर जताई आपत्ति, BJP विधायक बोले- दूसरे देश चले जाएं

पटना8 महीने पहले
BJP विधायक संजय सिंह और AIMIM विधायक अख्तरुल ईमान।

विधानसभा के शीतकालीन सत्र का समापन राष्ट्रगीत से कराना विवादास्पद हो गया। जहां AIMIM के अख्तरुल ईमान ने इसका कड़ा विरोध किया, वहीं भाजपा के फायर ब्रांड हरिभूषण ठाकुर बचौल तो अख्तरुल ईमान पर ही बरस पड़े। यही नहीं BJP विधायक संजय सिंह ने भी कहा, 'इस देश में रहने वालों को राष्ट्रगीत गाना ही होगा।'

सदन की कार्यवाही खत्म होने के बाद अख्तरुल ईमान ने वंदे मातरम् को अपनी आस्था के प्रतिकूल बताया और कहा, 'यह हमारी मान्य परंपराओं के खिलाफ है। राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत तो पहले भी था, लेकिन इसे सदन के अंदर कभी नहीं गाया गया। यह नई परिपाटी शुरू की गई। इसकी कोई आवश्यकता नहीं थी। राष्ट्रगीत से हमारी राष्ट्रभक्ति पर सवाल कोई नहीं उठा सकता। हम मादरे वतन में आस्था रखते हैं, लेकिन कोई जबरन राष्ट्रगीत नहीं गवा सकता। यह घोर आपत्तिजनक है। आखिर ऐसी नई परंपरा क्यों शुरू की गई? इसकी क्या आवश्यकता पड़ गयी। क्या संविधान में इसकी अनिवार्यता है?'

भाजपा विधायकों ने कहा-यह सांप्रदायिक सोच, ये देश को तालिबान बनाना चाहते हैं

उधर, अख्तरुल ईमान के इस बयान पर बचौल एकदम से भड़क गए और कहा, 'उनकी सोच ही तालिबानी जैसी लगती है? वे इस देश को भी तालिबान बनाना चाहते हैं। राष्ट्रगीत गाने से इनकार करने वाले राष्ट्रभक्त होने का दावा कैसे कर सकते हैं? दरअसल, जेहादी मानसिकता और सांप्रदायिक सोच के व्यक्ति से इससे अधिक की उम्मीद भी नहीं की जा सकती। उन्होंने खास वर्ग के राष्ट्रभक्तों को शर्मिंदा किया है। AIMIM पार्टी की नींव ही सांप्रदायिकता के आधार पर रखी गई। राष्ट्रभक्ति इनके लिए सिर्फ दिखावा। इन्हें न तो देश से प्रेम है न इस देश की परंपराओं से।'

BJP विधायक संजय सिंह ने कहा, 'इन देश में रहने वालों को राष्ट्रगीत गाना ही होगा। यदि वे ऐसा नहीं करते तो उन्हें अपने पसंद के देशों में चले जाना चाहिए। राष्ट्रगीत की आवश्यकता पर सवाल उठाने के पहले ऐसे लोगों को अपने अंदर राष्ट्रभक्ति जगानी चाहिए। ऐसा न करने वाले थोड़ा इंतजार करें, समय आएगा उन्हें सारी चीजें समझ आ जाएंगी। फिर वे राष्ट्रगीत के प्रति सम्मान भी दिखाएंगे और खड़े होकर गाएंगे भी।'

राष्ट्रगीत-राष्ट्रगान गौरव का प्रतीक

विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा ने कहा, 'राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत राष्ट्र गौरव का प्रतीक है। यह हमारी विरासत पर गर्व का अनुभव देता है; ऐतिहासिक क्षण का अनुभव कराता है; राष्ट्र गौरव को बढ़ाता है।'

बोचहां विधायक का प्रश्न जो विधानसभा में उठाया गया।
बोचहां विधायक का प्रश्न जो विधानसभा में उठाया गया।