• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Murliganj's BEO Suspended, Audio Found Correct In Investigation, Audio Came On Social Media Asking For Bribe Of Rs 8 Lakh

मुरलीगंज के BEO निलंबित:8 लाख में शिक्षक की नौकरी बेचने वाला ऑडियो सही, शिक्षा मंत्री बोले- मामले की और गहनता से होगी जांच

पटना4 महीने पहले
निलंबित BEO सूर्य प्रसाद यादव की फाइल फोटो।

बिहार में 8 लाख रुपए में शिक्षक की नौकरी बेचने वाले प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी (BEO) को सस्पेंड कर दिया गया है। घूसखोरी का ऑडियो वायरल होने के बाद शिक्षा विभाग ने कार्रवाई की है। BEO मधेपुरा जिले के मुरलीगंज में पदस्थ थे। उनका नाम सूर्य प्रसाद यादव है।

शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने शनिवार को बताया- "BEO का जो ऑडियो वायरल हुआ था, उसकी जांच की गई है। जांच में आरोप सही पाए गए। इसके बाद कार्रवाई की गई है। इस मामले की और भी गहनता से जांच कर विभागीय कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है। पूर्ण जांच के बाद आवश्यकतानुसार आगे भी सख्त कार्रवाई की जाएगी।'

शिक्षा मंत्री ने लोगों से अपील की है कि शिक्षक नियोजन के क्रम में जो भी गड़बड़ी या भ्रष्टाचार की शिकायत मिले उसे विभाग के संज्ञान में जरूर लाएं ताकि गड़बड़ी करने वालों के विरूद्ध आवश्यक कार्रवाई की जा सके।

क्या है पूरा मामला

ऑडियो को सुनने से साफ पता चलता है कि गुड्डू नामक एक अभ्यर्थी से पहले पंकज कुमार नाम का एक शख्स फोन करके बात करता है और परिचय करने के बाद वह BEO को फोन थमा देता है। BEO अपनी बातचीत में गुड्डू को आश्वस्त करते हैं कि 8 लाख रुपए की व्यवस्था कर ले तो नौकरी पक्की है। वह यहां तक कह जाते हैं कि BDO साहब सह नियोजन इकाई के सचिव अपने कैंडिडेट से 10 लाख दिलाने के लिए तैयार हैं, लेकिन यह सीट गुड्डू को ही दिलाई जाएगी। पद पाने के लिए उसे कष्ट करना पड़ेगा।

वायरल ऑडियो में BEO यहां तक कहते हैं कि उन्होंने जेल जा चुके अपने एक संबंधी को भी तब नौकरी लगवा दी, जबकि उसे कुछ आता-जाता भी नहीं है। अधिकारी पैसों के बल पर अपने सभी सगे संबंधियों को शिक्षक बनाने का दावा कर रहे हैं। BEO ने गुड्डू को बताया- "जो रुपए लिए जाएंगे उसमें 6-7 हिस्सेदार हैं। हिस्सेदारों में DEO और DDC भी शामिल हैं। इसलिए उन्हें ज्यादा बचेगा भी नहीं।'

94 हजार सीटों पर चल रही काउंसिलिंग

राज्य में अभी 94 हजार सीटों पर दो चरण की काउंसिलिंग हुई है। अभ्यर्थियों को अब नियुक्ति पत्र भी मिलने वाला है। कई नियोजन इकाइयों से गड़बड़ी की शिकायतें भी सामने आई हैं।

खबरें और भी हैं...