5 हजार का डीजल फूंका, फिर भी नहीं निकला पानी:मुजफ्फरपुर में छोटे मोहल्ले में लगा पानी निकालने में हांफ गया सुपर शकर मशीन, बिना पानी निकाले लौटा

मुजफ्फरपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लोगों को हो रही है परेशानी। - Dainik Bhaskar
लोगों को हो रही है परेशानी।

मुजफ्फरपुर में बारिश के कारण शहर के मोहल्लों में जलजमाव है। नगर निगम के जलनिकासी के प्रयास असफल हो रहें है। वार्ड पार्षद निगम प्रशासन पर अपनी विफलता के ठीकरे फोड़ रहें है। राहुल नगर वार्ड नम्बर दो में महीनों से जलजमाव की स्थिति है। कई बार निगम प्रशासन को जनता ने इसकी जानकारी दी और जलनिकासी का प्रबंध करने की मांग की। लेकिन, कोई फायदा नहीं हुआ।

बुधवार को मोहल्लावासियों की मांग पर निगम ने जलजमाव की समस्या से निदान के लिए सुपर सकर मशीन उपलब्ध कराया। सुपर सकर मशीन भी मौके पर पहुंचा। जलजमाव की समस्या से निदान के लिए काम भी शुरू हुआ। लेकिन, करीब दो घंटा में ही काम को बंद कर दिया गया। कारण बताया गया कि मोहल्ला के नाला व मेनरोड के नाला का लेवल में काफी अंतर है। मेनरोड का नाला का लेवल काफी ऊपर है। तकरीबन डेढ़ फीट उसकी ऊंचाई है। इससे नाला सफाई के बाद मेनरोड के नाला का पानी मोहल्ला के नाला में प्रवेश करने लगा। सड़क पर पानी उफनाने लगा। इसके बाद सफाई काम को रोक दिया गया।

घंटे में 25 लीटर की खपत
बता दें की सुपर सकर मशीन में एक घंटें में 25 लीटर डीजल की खपत है। राहुलनगर मोहल्ले में से पानी निकालने के लिए दो घण्टे तक मशीन चला। इससे इस 50 लीटर यानी 5000 का डीजल की खपत नाला सफाई में हुई। लेकिन जलजमाव की समस्या बरकरार रही। अभी लोग गंदे व सड़ान्ध पानी से होकर गुजरने को विवश है।
सफाई करने पहुंचे निगमकर्मियों ने बताया कि दामोदरपुर में आउटलेट जाम है। इस वजह से नाली का पानी आगे नहीं निकल पा रहा है। सफाई के बाद पानी वापस राहुल नगर मोहल्ला के नाली में लौट रहा है। इससे समस्या बरकरार है। स्थानीय लोगों ने सवाल उठाया की ऐसे नाला निर्माण के लिए कौन जिम्मेवार है।

निगम की राजनीति बनी विकास के राह में रोड़ा
मौके पर मौजूद वार्ड दो की पार्षद गायत्री चौधरी ने कहा कि मेयर के कुर्सी की लड़ाई में सबलोग पीस रहें है। वार्ड का विकास रुक गया है। निगम प्रशासन एक फाइल को पास नहीं कर रहें है।

सफाई से लेकर विकास के कई योजनाओं का प्रस्ताव निगम प्रशासन को दिया गया है। लेकिन अबतक कोई एक्शन नहीं हो सका। उन्होंने ने कहा कि काफी प्रयास के बाद आज सुपर सकर मशीन मिला था। लेकिन नाले का निर्माण ऐसा है कि स्थित जस का तस बना रहा।

खबरें और भी हैं...