पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • NCB Action On Ganja Supplier In Begusarai; NCB Team Rcovered Ganja Before Delivery

बिहार में NCB की बड़ी कार्रवाई:पेट्रोल टैंकर में त्रिपुरा से आ रही थी 1,223.700 किलो गांजा की खेप, पटना-हाजीपुर में डिलीवरी से पहले बेगूसराय में पकड़ा

पटना19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
NCB की कार्रवाई में बरामद गांजा। - Dainik Bhaskar
NCB की कार्रवाई में बरामद गांजा।

गांजा की एक बड़ी खेप को पेट्रोल टैंकर के अंदर छीपा कर लाया जा रहा था। इस खेप को लेकर दो लोग त्रिपुरा से चले थे। इस खेप के आधे हिस्से की डिलीवरी पटना में होनी थी, जबकि बाकी के खेप को हाजीपुर में तस्करों के एक ठिकाने पर पहुंचाया जाना था। लेकिन, इससे पहले ही नार्कोटिक्टस कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने बड़ी कार्रवाई कर दी।

लखनऊ से इस खेप की सूचना NCB के बिहार-झारखंड जोन की टीम को मिली। इसके बाद खेप को कैसे पकड़ना है? इसके लिए प्लान बनाया गया। बेगूसराय जिले के बछवाड़ा को कार्रवाई के लिए सेंटर प्वाइंट बनाया गया। अपनी प्लानिंग के तहत टीम ने कार्रवाई की और टैंकर को बछवाड़ा में पकड़ लिया। उसमें सवार दो लोगों को पकड़ा। टैंकर के अंदर रखे 1,223.700 किलो गांजा के अलग-अलग पैकेट को बरामद किया।

गाड़ी को किया गया जब्त।
गाड़ी को किया गया जब्त।

हालात में सुधार होते ही लेगे रिमांड पर

NCB की टीम ने जिन दो लोगों को पकड़ा है। उनमें वैशाली जिले के राघोपुर थाना के तहत मोहनपुर का रहने वाला राजकुमार यादव और पटना के करमलीचक के देवी स्थान इलाके का रहने वाला कल्लू सहनी शामिल है। NCB के जोनल डायरेक्टर कुमार मनीष के अनुसार कोरोना की वजह से जो हालत बने हुए हैं, उसमें सुधार होते ही इन दोनों को रिमांड पर लिया जाएगा। फिर इस खेप को लेकर दोनों से पूछताछ की जाएगी। इस खेप को त्रिपुरा से किसने मंगवाया और फिर डिलीवरी होने के बाद इसे कहां भेजा जाना था? इस बारे में पड़ताल की जाएगी।

कोरोना काल में बढ़ी गांजा की डिमांड

कोरोना वायरस की वजह से इंटरनेशनल मूवमेंट बंद है। इस कारण नशेड़ियों को विदेशों से आने वाले ड्रग्स नहीं मिल रहे हैं। इस कारण देश के अंदर गांजा की डिमांड बढ़ गई है। इस बात को NCB के अधिकारी भी मान रहे हैं। उत्तर-पूर्व के राज्यों से गांजा की खेप लगातार मंगाई जा रही है। नशिली पदार्थों का कारोबार करने वाले सौदागर बिहार-झारखंड के रूट अपना सेफ जोन मानते हैं। NCB के अधिकारियों की मानें तो बिहार में गांजा की खेप जरूर बड़े पैमाने पर पकड़ी जाती है। मगर, बिहार से ज्यादा दूसरे राज्यों के लोग गांजा पीते हैं।

खबरें और भी हैं...