बिहार में जहरीली शराब से मौत पर बेतुके बोल:खान मंत्री ने विपक्ष का हाथ बताया तो पर्यटन मंत्री बोले- सरकार कहां-कहां पुलिस रखेगी

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिहार में बीते तीन दिनों में जहरीली शराब से 33 लोगों की मौत पर सियासी बयानबाजी शुरू हो गई है। विपक्ष, सरकार पर हमलावर हैं तो सत्ता पक्ष के मंत्री बेतुके बयान दे रहे हैं। खान मंत्री जनक राम ने इसे विपक्ष की साजिश करार दिया तो पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद ने इसका पूरा ठीकरा पीड़ित परिवार पर ही फोड़ दिया।

वहीं, मद्य निषेध मंत्री सुनील कुमार ने 21 लोगों की मौत की पुष्टि की। कुमार ने कहा कि बेतिया में 10 और गोपालगंज में 11 लोगों की मौत हुई है। हालांकि, उन्होंने इस मामले में अब भी शंका जताई है कि ये मौतें जहरीली शराब से ही हुई हैं। उन्होंने कहा है कि शराब पीने से मौत की पुष्टि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद होगी।

बेतिया में बढ़ सकते हैं मौत के मामले: मंत्री

मद्य निषेध मंत्री ने कहा कि बेतिया में मौत के मामले बढ़ सकते हैं। मंत्री ने माना है कि राज्य में इस साल अब तक 40 मौतें शराब पीने से हुई हैं। मौतों पर हुई कार्रवाई के मामले में उन्होंने दोनों थाने के थानेदार, एक चौकीदार और 1 दफादार को निलंबित करने की बात कही है।

घंटे-दर-घंटे मरते रहे लोग, नेताओं ने दिए बेतुके बयान

मौत के मामले में विपक्ष के नेता सरकार और पुलिस पर सवाल उठाते रहे। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने मौत के मामले पर CM नीतीश कुमार की चुप्पी पर हमला किया है। उन्होंने कहा कि CM प्रशासन पर कार्रवाई करने की बजाय पीने वालों को सबक सिखाने की धमकी देते हैं। दूसरी तरफ सत्ता पक्ष के नेता अजब और बेतुके बयान दे रहे हैं।

सरकार में शामिल HAM पार्टी के नेता दानिश रिजवान ने मौतों के मामले को विपक्ष की साजिश बताया है। उनकी मानें तो सरकार जल्द इस मामले को बेनकाब करेगी और गरीबों को मारने वालों से हम पार्टी बदला लेगी। सूबे के खान और भूतत्व मंत्री जनक राम के अनुसार, सरकार को बदनाम करने के लिए विपक्ष द्वारा साजिश के तहत लोगों को जहरीली शराब पिलाई गई। जनक राम ने ये बयान गोपालगंज में मृतकों के परिवार वालों से मिलने के दौरान दिया।

वहीं, बेतिया में पीड़ितों से मिलने पहुंचे पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद ने कहा कि आखिर सरकार कितनी पुलिस रखेगी। कहां-कहां, कौन-कौन गांव, किस व्यक्ति के पास रखेंगे? वहां जो लोग शराब पीते हैं, उनके घर के लोगों को सूचना देनी चाहिए कि हमारे घर के लोग फलां जगह शराब पीते हैं और जब कार्रवाई नहीं होती, तब सरकार जिम्मेदार होती।