• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Nitish Kumar To Banks; Bihar CM Says Says Branch Should Be Opened In Gram Panchayat

CM ने बैंकों की लगाई क्लास:कहा- बिहार के लोगों का पैसा यहां के बैंकों में जमा होता है, जबकि यहां का पैसा विकसित राज्यों में चला जाता है, यह गलत है

पटनाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
SLBC की ऑनलाइन बैठक में CM नीतीश कुमार। - Dainik Bhaskar
SLBC की ऑनलाइन बैठक में CM नीतीश कुमार।

CM नीतीश कुमार ने बिहार में संचालित हो रहे बैंकों को कड़े शब्दों में निर्देश जारी किया है। कहा कि हर ग्राम पंचायतों में बैंकों की शाखा खोली जाए। CD रेशियो बढ़ाएं और इसे राष्ट्रीय स्तर के लक्ष्य तक लाने की कोशिश करें। विकास कार्यों के साथ-साथ अन्य योजनाओं में भी बैंकों की महत्वपूर्ण भूमिका है। बिहार के विकास में बैंक अपनी सहभागिता और बढ़ाएं। अगले वर्ष के लिए ACP यानी एनुअल क्रेडिट प्लान का जो लक्ष्य निर्धारित किया गया है, उसे पूरा करें।

MSME (माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज) के क्षेत्र में बिहार में काफी संभावनाएं हैं। इसको बढ़ावा देने के लिए बैंकों का सहयोग जरूरी है। बैंको की शाखा खुलेंगी, बैंकों का विस्तार होगा तो न सिर्फ राज्य और देश का विकास होगा, बल्कि बैंकों का खुद का भी विकास होगा।

बैंकों की सुरक्षा के लिए हमलोग गंभीर हैं। कहीं कोई घटना घटती है तो गंभीरता से कार्रवाई की जाती है। ये बातें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने SLBC की बैठक में कहीं। CM नीतीश कुमार की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति यानी SLBC की 76वीं बैठक का आयोजन किया गया। बैठक ऑनलाइन हुई। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अलावा इस बैठक में वित्त मंत्री तारकेश्वर प्रसाद सहित उद्योग मंत्री और संबंधित पदाधिकारी, इसके अलावा सभी बैंकों के प्रतिनिधि ऑनलाइन जुड़े थे।

CD रेशियो के लक्ष्य में काफी पीछे बिहार

SLBC की इस बैठक में CM ने बैंक प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि 2020-21 में राज्य का क्रेडिट डिपॉजिट रेशियो 46.40 प्रतिशत रहा है, जबकि पूरे देश का 76.5 प्रतिशत रहा है। इस मामले में लक्ष्य से हमलोग काफी पीछे हैं। राष्ट्रीय स्तर तक CD रेशियो (क्रेडिट डिपॉजिट रेशियो) के लक्ष्य को लाने की कोशिश करें। यहां के लोगों का पैसा यहां के बैंकों में जमा होता है, जबकि यहां का पैसा विकसित राज्यों में चला जाता है।

बिहार के लोगों का बैंकों पर पूरा भरोसा है, जिस कारण वे अपना पैसा बैंकों में रखते हैं। कुछ राज्य ऐसे हैं, जिनका CD रेशियो 100 प्रतिशत से ऊपर है। बिहार के कई जिलों में लक्ष्य से काफी कम CD रेशियो है। राज्य की राजधानी पटना जो काफी एक्टिविटी वाला जिला है, उसका CD रेशियो 39.22 प्रतिशत है।

CM ने बैंकों को लक्ष्य देते हुए कहा कि वर्ष 2020-21 में एनुअल क्रेडिट प्लान का लक्ष्य 1 लाख 54 हजार 500 करोड़ रखा गया था, जिसका 87.86 प्रतिशत, 1 लाख 27 हजार 161 करोड़ रुपए खर्च किए गए। उन्होंने कहा कि मुख्य कृषि क्षेत्र के लिए 47 हजार 778 करोड़ रुपए, जबकि एग्रिकल्चर अलायड क्षेत्र में 917 करोड़ रुपए खर्च किए गए, जो कि लक्ष्य से कम है।

उन्होंने कहा कि अगले वर्ष के लिए ACP का लक्ष्य 1 लाख 61 हजार 500 करोड़ रुपए निर्धारित किए गए हैं। कृषि क्षेत्र के लिए 51 हजार 500 करोड़ रुपए तथा एग्रिकल्चर अलायड के लिए 15 हजार करोड़ रुपए का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। हमें उम्मीद है इस लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में कदम उठाएंगे।

MSME के क्षेत्र में बिहार में काफी संभावनाएं

CM ने कहा कि MSME के क्षेत्र में बिहार में काफी संभावनाएं हैं। हमलोगों के सरकार में आने से पहले राज्य में पुलों, सड़कों, संस्थानों, स्कूलों, कॉलेजों की क्या स्थिति थी, यह सभी जानते हैं। हमलोगों को जब से काम करने का मौका मिला है, विकास के कई कार्य किए गए हैं। राज्य में उस तरह उद्योग की प्रगति नहीं हुई, जैसा हमलोग चाहते हैं, लेकिन राज्य में व्यापार बढ़ा है।

उन्होंने कहा कि MSME क्षेत्र में बढ़ावा देने के लिए आपके सहयोग की जरूरत है। अगले वर्ष के ACP में MSME के लिए 35 हजार करोड़ रुपए का लक्ष्य रखा गया है। मेरा निवेदन है कि इसे पूरा करें। उन्होंने कहा कि यहां के लोगों का जो पैसा यहां जमा है, उसी का हिस्सा आपको लगाना है।

खबरें और भी हैं...