• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Nitish Kumar JDU BJP Party Alliance | Bihar CM Nitish Kumar One To One Talk With Selected Leaders

भाजपा से दोस्ती पर नीतीश-अनिश्चय:पार्टी अध्यक्ष की कुर्सी छोड़ चुके नीतीश CM पद पर चुनिंदा नेताओं से कर रहे वन-टू-वन

पटना2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
एक गाड़ी में दिखे सीएम नीतीश कुमार, आरसीपी सिंह और विजय चौधरी। - Dainik Bhaskar
एक गाड़ी में दिखे सीएम नीतीश कुमार, आरसीपी सिंह और विजय चौधरी।

जनता दल यूनाईटेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष की कुर्सी रामचंद्र प्रसाद (RCP) सिंह को सौंपने के अगले दिन पार्टी की कोई बड़ी गतिविधि प्लान नहीं थी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सोमवार को रूटीन के तहत अपने सरकारी कामकाज को देखते, लेकिन वह पहुंच गए जदयू दफ्तर और शुरू कर दिया राष्ट्रीय कार्यकारिणी के चुनिंदा नेताओं से वन-टू-वन। अरुणाचल प्रदेश में भाजपा के हाथों अपने 7 में से 6 विधायक खोने के बाद नीतीश कुमार ने पश्चिम बंगाल चुनाव का इंतजार करने की जगह अभी ही भाजपा के साथ भविष्य को लेकर रायशुमारी की।

भाजपा के किए-धरे पर रात में भी शांत नहीं रहा जदयू
पहले दिन राष्ट्रीय नेताओं के साथ बैठक और दूसरे दिन राष्ट्रीय कार्यकारिणी की पूरे समय बैठक के बाद सोमवार को जदयू दफ्तर में कोई बड़ा कार्यक्रम पहले से निर्धारित नहीं था। लेकिन, रविवार शाम राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में RCP की ताजपोशी कराने के साथ ही नीतीश ने अरुणाचल प्रदेश में भाजपा के किए-धरे पर कष्ट का इजहार भी कर दिया। भाजपा के नेता RCP को अध्यक्ष बनने पर बधाई देते हुए बिहार की NDA सरकार की और मजबूती की बात कर रहे थे, जबकि दूसरी तरफ जदयू के नए अध्यक्ष भाजपा को कड़े शब्दों में सीख दे रहे थे। यह भी बोल गए कि अब कोई इस तरह जदयू की पीठ में छुरा नहीं घोंप सकेगा। यह सब होने के बाद रविवार की रात भी मुख्यमंत्री आवास में अरुणाचल ही छाया रहा और अगले दिन सुबह के लिए तय हो गया कि नीतीश कुछ चुनिंदा नेताओं से एक-एक कर मिलेंगे।

तीसरे दिन एक-एक कर मिले, डेढ़ घंटे पार्टी को दिया
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के कुछ नेताओं को सोमवार की बैठक के लिए रोक लिया गया था। तीसरे दिन इन नेताओं से नीतीश कुमार ने अलग-अलग बात की। सीधा जानना चाहा कि जदयू का स्टैंड आगे क्या होना चाहिए। बिहार को अलग रखकर देश की राजनीति आगे बढ़ानी चाहिए या अरुणाचल प्रदेश में अच्छा रिश्ता रखने के बावजूद धोखा मिलने पर भाजपा को कड़ी सीख दी जानी चाहिए। नीतीश इन सवालों के जवाब से अपनी आगे की रणनीति तय करना चाह रहे हैं और संभव है कि अब बहुत जल्द वह साफ कर देंगे कि अरुणाचल प्रदेश का बदला बिहार में लिया जाएगा या नहीं। सोमवार डेढ़ बजे नीतीश राष्ट्रीय अध्यक्ष RCP सिंह और मंत्री विजय कुमार चौधरी के साथ जदयू कार्यालय से निकलते हुए भी यह जाहिर नहीं कर गए कि बिहार में कुछ बड़ा राजनीतिक बवंडर आने वाला है।

खबरें और भी हैं...