पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Nitish Kumar Saat Nishchay Part 2 Update; 64.8 Percent Posts Vacant In Water Resources Department

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सात निश्चय पार्ट-2 की मुश्किलें:लघु जल-संसाधन विभाग के पास जल है, संसाधन नहीं; 64.8 प्रतिशत पद खाली पड़े, कैसे पहुंचेगा हर खेत में पानी

पटना2 महीने पहलेलेखक: शालिनी सिंह
  • कॉपी लिंक
  • सात निश्चय योजना में लघु जल-संसाधन को पहुंचाना है 'हर खेत में पानी'
  • विभाग के एक कार्यपालक अभियंता के जिम्मे हैं तीन-तीन जिले

नीतीश सरकार पार्ट-4 की शुरूआत के साथ ही सात निश्चय पार्ट-2 का काम शुरू करने को लेकर बैठकों को दौर शुरू हो गया। लेकिन सवाल यह है कि जिस विभाग में काम वाले लोग ही नहीं, वह विभाग बिहार सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट 'हर खेत को पानी' कैसे पहुंचायेगा। लघु जल-संसाधन विभाग का हाल ये है कि इस विभाग में अभियंता प्रमुख का स्वीकृत एकमात्र पद भी वर्षों से खाली है। मुख्य अभियंता के सभी चार पद खाली पड़े हैं। क्या हाल है विभाग का, जरा इन आंकड़ों से समझिए -

बिहार के लघु जल-संसाधन विभाग में 20 अक्टूबर 2020 तक स्वीकृत, कार्यरत और रिक्त पदों की स्थिति।
पदनामस्वीकृत बलकार्यरत बलरिक्तियां
अभियंता प्रमुख010001
मुख्य अभियंता040004
अधीक्षण अभियंता171205
कार्यपालक अभियंता522428
सहायक अभियंता18550135
कनीय अभियंता584211373

खुद विभाग के हैं ये आंकड़े

भास्कर ने आपके सामने जो आंकड़े रखे हैं, वो खुद लघु जल-संसाधन विभाग के हैं। इन आंकड़ों के मुताबिक विभाग में अभियंता प्रमुख से लेकर कनीय अभियंता तक के 843 सृजित पद हैं, जिसमें आधे से भी अधिक 546 पद खाली हैं। यही नहीं, जिन 211 पदों पर अभियंता कार्यरत हैं, उनमें महज 84 अभियंता नियमित रूप से बहाल हैं, बाकी 127 संविदा पर काम कर रहे हैं। हाल यह है कि एक कार्यपालक अभियंता 3-3 जिलों को संभाल रहे हैं, जबकि साल दर साल बिहार में जल संकट गहराता जा रहा है।

गर्मियों में जलस्तर की गिरावट बनती जा रही बड़ी समस्या

बिहार के ज्यादातर जिलों में औसतन 10 से 11 फीट की गहराई पर पानी मिल जाता है। लेकिन लघु जल-संसाधन विभाग की बीतें दिनों आई एक रिपोर्ट के अनुसार बेगूसराय, भागलपुर, औरंगाबाद, पश्चिमी चंपारण, पटना, अरवल, गया एवं बक्सर जिलों के जलस्तर में कमी दर्ज की गई है। बीते दो सालों में गर्मियों में जलस्तर अधिक नीचे गया है। इन जिलों में औसत जलस्तर जमीन से 17 से 25 फीट तक पहुंच गया था। गंगा एवं महानंदा जैसी नदियों के किनारे बसे प्रखंडों में आमतौर पर जलस्तर नीचे रहता है। कटिहार में गर्मियों के दौरान जलस्तर छह से आठ इंच तक नीचे खिसकता है, लेकिन अब ये स्थिति जून-जुलाई में भी रहती है। बेगूसराय के भगवानपुर एवं मंसूरचक जैसे इलाकों में तो जलस्तर गर्मियों में जमीन से 22 से 25 फीट तक नीचे पहुंच गया था।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser