पंचायत चुनाव में पहली बार EVM में नहीं होगा नोटा:पहले चरण के लिए 22 को थम जाएगा प्रचार, तीसरे चरण के लिए नामांकन कल तक

पटना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लोकसभा और विधानसभा चुनाव में ईवीएम से हुई वोटिंग में वोटरों को ये विकल्प दिया गया था। - Dainik Bhaskar
लोकसभा और विधानसभा चुनाव में ईवीएम से हुई वोटिंग में वोटरों को ये विकल्प दिया गया था।

बिहार पंचायत चुनाव EVM से हो रहा है, लेकिन पहली बार इसमें नोटा का बटन नहीं होगा। इससे पहले हुए विधानसभा और लोकसभा चुनाव में EVM में नोटा का बटन दिया गया था, लेकिन पंचायत चुनाव में ये नहीं होगा। पंचायत चुनाव में फिलहाल तीन चरणों के लिए चुनावी प्रक्रिया जारी है। 24 सितंबर को पहले चरण का मतदान होगा ।

पहले चरण के लिए कल थम जाएगा प्रचार

पहले चरण का प्रचार बुधवार शाम पांच बजे थम जाएगा। पहले चरण में 24 सितंबर को 10 जिलों के 12 प्रखंडों में मतदान होगा। पहले चरण में 15,328 प्रत्याशियों ने 6 पदों के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया है। इनमें से 858 पदों पर प्रत्याशियों का निर्विरोध निर्वाचन हो चुका है। वहीं, 72 पदों पर किसी भी प्रत्याशी ने नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया। पहले चरण में ग्राम पंचायत सदस्य के 22,33 पदों को लेकर 8611 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र दाखिल किया है। ग्राम कचहरी पंच के 2233 पदों को लेकर 3225 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र दाखिल किया। मुखिया के 151 पद के लिए 1294 ने नामांकन पत्र दाखिल किया है। सरपंच के 151 पदों के विरुद्ध 772 नामांकन किए गए हैं। पंचायत समिति सदस्य के 195 पदों के लिए 1205 प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया है। जिला परिषद के 22 पदों के लिए 221 प्रत्याशी हैं।

तीसरे और दूसरे के लिए चुनावी प्रक्रिया जारी

दूसरे चरण की सीटों पर नामांकन खत्म होने के बाद अब प्रचार पूरे उत्साह पर है। दूसरे चरण में 34 जिलों के 48 प्रखंडों में चुनाव होना है। तीसरे चरण की सीटों पर नामांकन का कल आखिरी दिन है। तीसरे चरण में 35 जिलों के 50 प्रखंडों में चुनाव होना है। तीसरे चरण की सीटों पर 18 सितंबर तक 36 हजार 694 प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया है।

खबरें और भी हैं...