सीएम पर हाथ चलाने की विपक्ष ने की निंदा:राजद ने कहा- बेरोजगारी, अफसरशाही, महंगाई का गुस्सा लोग वोट के चोट से दें, हाथ की चोट से नहीं, सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा

पटना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हाथ चलाने की घटना पर राष्ट्रीय जनता दल ने कहा कि ' यह व्यवहार कतई उचित नहीं है।' लेकिन राजद ने इसके साथ ही यह भी कहा है कि- 'बेरोजगारी हो, अफसरशाही या महंगाई, नागरिक अपना गुस्सा वोट की चोट से निकाले, हाथ की चोट से नहीं। ' राष्ट्रीय जनता दल ने अपने सोशल मीडिया के ऑफिसियल पेज पर यह कहा है। इसके बाद तरह-तरह के कमेंट आ रहे हैं।

सब कुछ के बावजूद यह घटना निंदा करने लायक है- रितु जायसवाल, राजद

​​​​​​​राजद की प्रदेश प्रवक्ता रितु जायसवाल ने कहा है कि ' भ्रष्टाचार बढ़ा हुआ है, बेरोजगारी बढ़ी हुई है, अफसरशाही है, महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं इस सब के बावजूद मुख्यमंत्री पर इस तरह से हाथ उठाना कहीं से भी सही नहीं है, मैं इस घटना का निंदा करती हूं। '

सुरक्षा में लापरवाही का नतीजा- प्रेमचंद मिश्रा, कांग्रेस

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रेमचंद मिश्रा ने कहा कि 'यह अनुचित कृत्य है। कहीं न कहीं मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात लोगों की लापरवाही का नतीजा है। ऐसी लापरवाही को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। इतने सुरक्षा कर्मियों के बावजूद ऐसी घटना चिंता का विषय है। उनकी सुरक्षा चुस्त- दुरुस्त करनी चाहिए।'

राजद के सोशल मीडिया पेज पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं

राजद ने सोशल मीडिया पर जो लिखा है उस पर लोग अलग-अलग प्रतिक्रिया दे रहे हैं। विजय सिंह कुशवाहा ने लिखा है-' इनके राज में अफसरशाही का तो कोई मुकाबला ही नहीं कर सकता है। एमपी हो या एमएलए हो अगर किसी से फोन कर आइए तो काम हो हो ना दूर उसके बाद फोन करने वाले को ऐसा नचाया जाता है, ऐसा प्रताड़ित किया जाता है कि वह दोबारा किसी जन्म में भी किसी एमपी- एमएलए से फोन नहीं कराए।' कई लोगों ने सुरक्षा में चूक की निंदा की है और कड़ी से कड़ी सजा देने की भी मांग की है। रवीन्द्र भारती ने लिखा है-' यह बेरोजगारी का आलम है साहब'। वीरेन्द्र कुमार ने लिखा- 'जब गुस्सा सिर से ऊपर चला जाता है तो ऐसा ही होता है।' कई लोगों ने इस घटना पर चुटकी भी ली है। मुन्ना चौधरी ने लिखा है- 'हा...हा...हा... मन खुश कर दिया ।' अशोक सम्राट ने लिखा है- 'निंदनीय, बढ़ती हुई युवा बेरोजगार और महंगाई का परिणाम है, अब सरकार नहीं चेती तो और बुरा दिन आने वाला है।' अखिलेश कुमार ने लिखा- 'अगर आरजेडी का भी सीएम होता आज तो यही हाल होता।' यशस्वी यादव ने लिखा है- 'उम्मीद है चाचा को अपना पुराना वादा याद आ गया होगा 19 लाख रोजगार वाला।' संतोष कुमार ने लिखा-' अच्छा किया, बहुत अफसरशाही है। ' सोशल मीडिया पर ज्यादातर लोगों ने लिखा है कि इस तरह से हाथ चलाना ठीक नहीं है वोट के चोट से सरकार, अफसरशाही को जवाब देना चाहिए।

खबरें और भी हैं...