• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Paras LJP Challenge To Nitish Government For Gathering 20 Thousand People In Corona Pandemic; Bihar LJP Latest NEWS

कोरोना गाइडलाइन का क्या होगा ?:पारस गुट का दावा- रामविलास की जयंती पर LJP ऑफिस में जुटेंगे 20 हजार लोग; भास्कर के सवाल पर बोले- देशभर से आएंगे लोग

पटनाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पशुपति कुमार पारस, नेता, LJP - Dainik Bhaskar
पशुपति कुमार पारस, नेता, LJP

5 जुलाई को दिवंगत नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की जयंती मनाई जाएगी। इसके लिए लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) में बगावत करने वाले सांसद पशुपति कुमार पारस गुट की तरफ से बड़े पैमाने पर तैयारी की जा रही है। कोरोना काल में पारस गुट पटना स्थित पार्टी कार्यालय में 20 हजार लोगों को जुटाने का दावा कर रहा है। यह कोरोना काल में नीतीश सरकार के लिए खुली चुनौती है।

बिहार के सभी जिलों से आएंगे कार्यकर्ता

दावा किया जा रहा है कि जयंती समारोह में सभी बागी सांसदों के साथ ही कई पूर्व सांसद और पूर्व विधायक मौजूद रहेंगे। विधानसभा चुनावों में प्रत्याशी रहे नेता सहित LJP और दलित सेना के नेता और कार्यकर्ता भी शामिल होंगे। LJP का पारस गुट बिहार के हर जिले से कार्यकर्ताओं को बुलाने की प्लानिंग कर रहा है। वहीं, बिहार में कोरोना को लेकर भी अनलॉक-3 चल रहा है। इसमें शादी और श्राद्ध कार्यक्रम में 25 से अधिक लोगों के जुटने की परमिशन नहीं है। ऐसे में सरकार इतनी बड़ी संख्या में लोगों के जुटने की कैसे अनुमित देगी, यह देखने वाली बात है।

राजधानी में पोस्टर-बैनर पाटा जाएगा

प्रदेश के दूरदराज के इलाकों में रहने वाले लोग 4 जुलाई की रात से ही पहुंचने लगेंगे। इस बात का दावा खुद पारस गुट के प्रवक्ता श्रवण अग्रवाल ने किया है। वो कह रहे हैं कि रामविलास पासवान की जयंती है। इसे ऐतिहासिक तौर पर मनाया जाएगा। पूरे राजधानी को होर्डिंग और बैनर से पाटा जाएगा। जिला मुख्यालयों में भी इसी तरह का माहौल रहेगा।

इसके लिए पशुपति कुमार पारस की तरफ से खास निर्देश दिया गया है। अब सवाल उठता है कि क्या कोरोना काल में इतने बड़े पैमाने पर भीड़ जुटाना जरूरी है? क्या ये बिहार सरकार और उनकी व्यवस्थाओं को पारस गुट की LJP खुली चुनौती नहीं देने जा रही है? एक जगह पर 20 हजार लोगों के जुटने से कोरोना प्रोटोकॉल पूरी तरह से ध्वस्त नहीं हो जाएगा?

कोरोना प्रोटोकॉल का पालन होगा

पारस गुट के प्रवक्ता से दैनिक भास्कर ने उन सवालों को पूछा, जिसका सरोकार आम जन के बीच कोरोना वायरस के संक्रमण का फैलाव और उसके प्रोटोकॉल से जुड़ा था। पारस गुट का कहना है कि हम कोई जुलूस या जलसा नहीं कर रहे हैं। जयंती समारोह पूरी तरह से कोरोना प्रोटोकॉल के तहत आयोजित होगा।

कार्यक्रम की शुरुआत सुबह 8 बजे से ही होगी। सबसे पहले श्रद्धांजलि सभा होगी। इसके बाद बाकी के प्रोग्राम होंगे। इसके लिए पार्टी कार्यालय में पंडाल बनाया जा रहा है। बैरिकेडिंग की जा रही है। मास्क और सैनेटाइजर का इस्तेमाल होगा। एक साथ सभी लोगों को जुटने नहीं दिया जाएगा। बैठकर खाने की की व्यवस्था नहीं की गई है। आने वाले लोगों को फूड पैकेट दिया जाएगा। दिन भर लोगों के आने-जाने का सिलसिला चलता रहेगा।

कोरोना गाइडलाइन पर पारस गुट की सफाई

पारस गुट की तरफ से सफाई दी गई है। पशुपति कुमार पारस की तरफ से कहा गया है कि हम NDA के अंग हैं। भले विधायक नहीं हैं, पर नीतीश सरकार के समर्थन में हैं। इस कारण किसी भी हाल में जयंती समारोह के दरम्यान कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन नहीं होगा। इस कार्यक्रम में बिहार ही नहीं देश भर से लोग आएंगे। उन्हें आने से रोका नहीं जा सकता है। जहां तक बात कोरोना गाइडलाइंस की है तो उसका उल्लंघन तो चिराग पासवान करने वाले हैं। उनके आशीर्वाद यात्रा को प्रशासन की तरफ से अनुमति नहीं मिली है।

खबरें और भी हैं...