राजद में लालू परिवार का अंतर्कलह चरम पर !:तेजस्वी के बिना हुई संसदीय बोर्ड की बैठक रद्द, जगदानंद सिंह भी शामिल नहीं हुए, राबड़ी देवी, मीसा भारती और तेजप्रताप उपस्थित रहे

पटना8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजद की बैठक की तस्वीर। - Dainik Bhaskar
राजद की बैठक की तस्वीर।

राष्ट्रीय जनता दल में राज्य सभा की दो सीटों पर नामों की घोषणा करने के लिए संसदीय बोर्ड की बैठक में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ही मौजूद नहीं थे। उनकी अनुपस्थिति में ही राजद कार्यालय में यह बैठक हुई। दिलचस्प यह कि बैठक की अध्यक्षता बोर्ड की उपाध्यक्ष राबड़ी देवी ने की। देर शाम इस बैठक से जुड़े प्रेस रिलीज को रद्द करने की जानकारी मीडिया को दी गई। इसका मतलब यह निकाला गया कि बैठक को भी रद्द कर दिया गया! बता दें कि राजद कार्यालय में पहले राज्य संसदीय बोर्ड और उसके बाद केंद्रीय संसदीय बोर्ड की बैठक हुई।

कई बड़े नेता मौजूद रहे

बैठक में हुआ क्या यह भी जानिए। बैठक में राज्य सभा के लिए संभावित नामों पर चर्चा की गई। इसमें राबड़ी देवी, मीसा भारती, तेज प्रताप यादव, अब्दुल बारी सिद्दीकी, शिवानंद तिवारी, कांति सिंह सहित कई बड़े नेता मौजूद रहे। बैठक में दो बड़े नेताओं ने दूरी बनाए रखी। वे दोनों हैं राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव। जानकारी है कि जगदानंद सिंह पार्टी कार्यालय से निकल गए और बैठक में शामिल नहीं हुए।

तेजप्रताप के समर्थकों ने खूब नारेबाजी की

संसदीय बोर्ड की बैठक में शामिल होने पहुंचे तेज प्रताप यादव के नाम के खूब नारे लगाए गए। राजद कार्यालय पहुंचने पर छात्र जनशक्ति परिषद के कार्यकर्ताओं ने खूब नारा लगाया... हमारा नेता कैसा हो.... तेज प्रताप जैसा हो.... कौन आया, कौन आया… शेर आया, शेर आया। राजद कार्यालय में तेजप्रताप यादव का जोश भी देखने लायक था।

सिद्दीकी ने कहा- सभी ने अंतिम रुप से लालू प्रसाद को उम्मीदवार चयन के लिए अधिकृत किया

बैठक के बाद राजद ससंदीय बोर्ड के सचिव अब्दुल बारी सिद्दीकी ने कहा कि बैठक में उम्मीदवारों के चयन को लेकर चर्चा हुई और सभी ने अंतिम रूप से फैसला लेने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू यादव को अधिकृत किया। इसलिए लालू प्रसाद ही अंतिम रूप से राज्य सभा के लिए दो नामों पर फैसला लेंगे। जब अब्दुल बारी सिद्दीकी से नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के बैठक में नहीं आने को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने चुप्पी साध ली। भास्कर ने राजद के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी से भी यह सवाल किया। उन्होंने कहा- नो कमेंट।

कई तरह के सवाल उठने लगे

संसदीय बोर्ड की बैठक और उसके बाद की स्थति के बारे में आम कार्यकर्ताओं के बीच कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। कईयों को लग रहा है कि राजद के अंदर का अंतर्कलह सतह पर आ गया है। कुछ के मन में सवाल उठ रहे हैं कि तेजस्वी यादव की ताकत को चुनौती देने की कोशिश तो नहीं हो रही?