पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna Beur Central Jail; Notice To Municipal Corporation As Illegal Goods Supply From Nearby Houses

बेऊर जेल के पड़ोसी रडार पर:जेल में आए आतंकी तो सख्त हुआ आसपास के घरों पर पहरा, 40 मकान चिह्नित; इन्हीं मकानों से जेल तक अवैध सामान पहुंचाने का शक, 24 जुलाई से होगी जांच

पटना9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बेऊर जेल। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
बेऊर जेल। (फाइल फोटो)

बेऊर जेल में आतंकियों की शिफ्टिंग के बाद आसपास एरिया पर पहरा सख्त कर दिया गया है। अभी बेऊर जेल में 16 आतंकी बंद हैं, ऐसे में प्रशासन का मानना है कि थोड़ी सी चूक होने पर कोई अनहोनी हो सकती है। DSP अमित कुमार ने बताया कि जेल प्रशासन और पटना नगर निगम ने संयुक्त रूप से चिह्नित कर 40 मकानों को नोटिस दिया है। आशंका है कि इन मकानों से जेल के अंदर आपत्तिजनक सामान फेंके जाते हैं।

निगम ने सभी मकान मालिकों को एक सप्ताह के अंदर निगम कार्यालय में अपने जमीन से संबंधित सभी कागज को जमा करने का निर्देश दिया है। नोटिस के बाद मकान मालिकों में हड़कंप मच गया है।

पटना नगर निगम ने मकानों की जांच के लिए चार टीमें बनाई है। 24 जुलाई से सभी चिह्नित मकानों की जांच शुरू होगी। पहले चरण में इन सभी मकानों के कागजात की जांच कराई जाएगी। उसके बाद उनके नक्शे की जांच की जाएगी। नगर निगम के नक्शे के विरुद्ध यानी अवैध निर्माण किया गया रहेगा तो उन मकानों पर बुलडोजर चला दिया जाएगा।

बेउर जेल में इस समय गांधी मैदान ब्लास्ट और बाेधगया ब्लास्ट के आरोपी आतंकी के साथ-साथ दरभंगा ब्लास्ट के चार आतंकी भी बंद हैं। इसके अलावा कुछ हार्डकाेर नक्सली बंद हैं। राजधानी समेत पूरे बिहार के कई कुख्यात भी इसी जेल में हैं। विधायक, पूर्व सांसद से लेकर कई घपला-घाेटाले के आरोपितों काे भी इसी जेल में रखा गया है।

नगर निगम ने जारी की 40 मकान मालिकों की लिस्ट।
नगर निगम ने जारी की 40 मकान मालिकों की लिस्ट।

गृह विभाग को भेजी गई थी चिट्ठी

जेल प्रशासन की शिकायत है कि इन मकानों का उपयोग जेल में अवैध समान पहुंचाने में किया जा रहा है। सामान में गांजा, मोबाइल, मोबाइल का सिम, चार्जर, खैनी सहित कई आपत्तिजनक सामान को लेकर जेल प्रशासन ने आपत्ति जताई थी। इसे लेकर कई बार थाने में शिकायत भी दर्ज कराई गई थी। इन सबके बावजूद जेल प्रशासन ने एक सूची बनाकर उन मकानों को चिह्नित कर गृह विभाग को इसकी पूरी जानकारी दी थी।

खबरें और भी हैं...