• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna Drugs Smuggling Case Update; Narcotics Team Caught Three With 710 Grams Morphine

पटना में फैलता नशे का कारोबार:पहली बार मिली मॉर्फिन की खेप, नार्कोटिक्स की टीम ने 710 ग्राम के साथ पोस्टलपार्क के सन्नी समेत 3 को पकड़ा

पटना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पिस्टल के साथ गिरफ्तार हुए तीन आरोपी। - Dainik Bhaskar
पिस्टल के साथ गिरफ्तार हुए तीन आरोपी।

बिहार में शराब बंदी के बाद से दूसरे नशीले पदार्थों की डिमांड काफी बढ़ गई है। इस बात के सबूत कई बार पकड़े गए गांजा और ड्रग्स की बड़ी खेप के जरिए मिल चुकी है। लेकिन, इस बार ड्रग्स की एक ऐसी वेरायटी पकड़ी गई है, जिसके बारे में पटना के लोगों ने कभी सोचा भी नहीं होगा। अपने पुख्ता इंटेलिजेंस के आधार पर नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की पटना जोन की टीम ने ड्रग्स की हाई क्वालिटी वाली वेरायटी मॉर्फिन की खेप को जब्त किया है। नॉर्कोटिक्स की टीम ने इस मामले में 3 लोगों को भी गिरफ्तार किया है।

सबसे बड़ा ड्रग पैडलर भी गिरफ्तार

पटना में पहली बार मॉर्फिन की बरामदगी हुई है। NCB की टीम ने मिले इंटेलिजेंस के आधार पर पटना पुलिस के साथ मिलकर रामकृष्णा नगर इलाके के एक घर में छापेमारी की। उस घर से टीम ने 710 ग्राम मॉर्फिन बरामद की। इस मामले में पहले दो फिर तीसरे पैडलर को गिरफ्तार किया गया। कंकड़बाग थाना के तहत पोस्टल पार्क के बुद्ध नगर रोड नंबर-1 में रहने वाले सिद्धेश्वर प्रसाद के बेटे सन्नी कुमार, रोड नंबर 1A के रहने वाले मुन्ना रविदास और चांदवारी रोड के सूर्या पथ गली के रहने वाले राजू प्रसाद को गिरफ्तार किया गया है। इसमें सन्नी कुमार राजधानी का सबसे बड़ा ड्रग पैडलर है। NCB पटना जोन के डायरेक्टर कुमार मनीष के अनुसार मॉर्फिन की खेप को सन्नी ने ही मंगवाया था। पिछले तीन महीने से वो इस धंधे में है।

आर्म्स एक्ट के तहत भी मामला दर्ज

रामकृष्णा नगर में इसने किराए पर एक कमरा ले रखा था। वहीं से ये नशा के कारोबार को पूरे पटना में चला रहा था। इनके पास से दो पिस्टल और 4 गोली भी बरामद किया गया है। आर्म्स एक्ट के तहत रामकृष्णा नगर थाना में एक अलग FIR की गई है। जबकि, मॉर्फिन के मामले में NCB कार्रवाई कर रही है। 250 ग्राफ मॉर्फिन बरामद होने पर कानूनी तौर पर कम से कम 10 साल की सजा का प्रावधान है। फिलहाल सन्नी से पूछताछ की जा रही है। उसके नेटवर्क और कनेक्शन को खंगाला जा रहा है। इस नशीले पदार्थ की खेप को वो कैसे और कहां से मंगवाता था? फिर इसके नीचे में छोट-छोटे कितने ड्रग पैडलर्स काम कर रहे है? वो पटना के किन एरिया में एक्टिव रहते हैं? इस तरह की हर इनपुट का जुटाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...