पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सफाई कर्मियों की हड़ताल टूटी या अफवाह फैलाया:पटना नगर निगम दावा- काम पर लौटे स्थायी कर्मचारी, हड़ताल पर गए कर्मी बोले- अफवाह है

पटना7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हड़ताल को समाप्त करने का अधिकारिक बयान हड़ताली कर्मचारी के प्रतिनिधि द्वारा ही जारी किया जाता है। (फाइल फाेटो) - Dainik Bhaskar
हड़ताल को समाप्त करने का अधिकारिक बयान हड़ताली कर्मचारी के प्रतिनिधि द्वारा ही जारी किया जाता है। (फाइल फाेटो)

पटना नगर निगम की तरफ से सोमवार की रात दावा किया गया कि सभी स्थायी सफाई कर्मचारी काम पर लौट आए हैं। नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा के साथ घंटे भर चली बैठक के बाद कर्मचारियों ने ड्य़ूटी पर लौटने के संबंध में अंचलों को सूचित कर दिया है। कर्मियों के काम पर लौटते ही सभी अंचलों में साफ-सफाई का काम हो रहा है। पुलिस बल की तैनाती के बीच सड़कों से कूड़ा उठाव का काम चल रहा है। दो से तीन दिन में व्यवस्था पटरी पर आने के दावे के साथ कहा गया है कि 21 कर्मियों पर कार्रवाई भी की गई है।

आंदोलन कर रहे मोर्चा का दावा

बिहार लोकल बॉडीज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा एवं बिहार राज्य स्थानीय निकाय कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष चंद्र प्रकाश सिंह का कहना है कि पटना नगर निगम एवं अन्य निकायों में हड़ताल अभी भी जारी है। निगम प्रशासन के स्तर से कुछ अफवाह फैलाई जा रही है या जो बयान जारी किया गया है, वह उनका बयान है। हड़ताल को समाप्त करने का अधिकारिक बयान हड़ताली कर्मचारी के प्रतिनिधि द्वारा ही जारी किया जाता है। इसलिए ऐसी स्थिति में यह कहना कि हड़ताल टूट गया है, बिल्कुल गलत है। मैं दावे के साथ कह रहा हूं कि हड़ताल जारी है।

निगम का यह भी है दावा

निगम का कहना है कि सफाई निरीक्षकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई बैठक में नगर आयुक्त ने कहा कि पटना नगर निगम के कर्मियों को सातवें वेतनमान, एसीपी, पेंशन, अनुमान्य सभी भत्तों आदि का लाभ पहले से ही प्राप्त हैं। इसके साथ ही सभी का ईपीएफ निबंधन कराया जा चुका है एवं ईएएसआई कार्ड भी प्रक्रियाधीन है। उन्होंने कहा, “पटना नगर निगम कर्मियों की शिकायतों के निवारण के लिए पूर्व से ही ग्रिवांस रिड्रेसल सेल गठित है जिसमें प्राप्त शिकायतों का ससमय एवं नियमानुकूल समाधान किया जाता है। हर महीने कर्मियों के साथ बैठक कर उनकी शिकायतें सुनी जाती हैं एवं निवारण सुनिश्चित किया जाता है। ऐसे में महामारी और बरसात के मौसम में जब डेंगू, मलेरिया, वायरल फीवर जैसी बीमारियों का प्रकोप शहर में बढ़ रहा है, कर्मियों का ड्यूटी पर ना आना और हड़ताल करना उचित नहीं है। सफाई कर्मियों को अविलंब कार्य पर लौटने का सख्त निर्देश दिया गया था और बाधा डालने अथवा लापरवाही करने वालों पर कड़ी कार्रवाई की भी चेतावनी दी गई।

निगम ने की कार्रवाई

निगम का कहना है कि वार्ड संख्या 25 में पदस्थापित विजय कुमार को प्रभारी सफाई निरीक्षक के पद से हटाकर इसी वार्ड में सफाई मजदूर के पद पर पदस्थापित कर दिया गया है। उनके स्थान पर सफाई मजदूर ओम प्रकाश राम को प्रभारी सफाई निरीक्षक की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वहीं, कंकड़बाग अंचल द्वारा भी प्रभारी चालक, सफाई पर्यवेक्षक, प्रभारी दैनिक चालक समेत कुल 16 सफाई मजदूरों के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई हेतु मुख्यालय को अनुशंसा भेजी गई है।

हड़ताल से जल जमाव

पटना नगर निगम के सफाई कर्मचारियों की हड़ताल से पटना के निवासियों का जन जीवन नरक हो गया है। वार्ड 51 स्थित अशोक राजपथ के चौधरी टोला जाने वाले रास्ते पर नाला का पानी लगातार बह रहा है। नाला पूरी तरह जाम है। चौधरी टोला मोहल्ले में छोटे बच्चों के लिए तीन स्कूल हैं। इसी रास्ते से बच्चों को रोजाना आने जाने में समस्या हो रही है। स्थानीय लोगों ने निगम से सफाई की मांग की है।

खबरें और भी हैं...