पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna University Senate Meeting; Senate Members Participate, Discussion On Academic Development

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सीनेट की बैठक में फैसला:पटना विश्वविद्यालय में आउटसोर्सिंग से की जाएगी तृतीय और चतुर्थ वर्गीय कर्मचारियों की बहाली, 51.10 करोड़ का प्रस्ताव भेजा गया

पटना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीनेट की बैठक में सदस्यों ने डीडीई  का मुद्दा भी उठाया। - Dainik Bhaskar
सीनेट की बैठक में सदस्यों ने डीडीई का मुद्दा भी उठाया।
  • विभिन्न विभागों के खोले जाने समेत कई मुद्दों पर विस्तार से चर्चा हुई
  • पटना विश्वविद्यालय के विकास को लेकर लिए गए कई फैसले

पटना विश्वविद्यालय (PU) सीनेट की मीटिंग पटना विश्वविद्यालय के सीनेट हाउस में कुलपति प्रोफेसर गिरीश कुमार चौधरी की अध्यक्षता में संपन्न हुई। इसमें कुल 9 एजेंडे थे। सीनेट की बैठक में यह भी फैसला लिया गया कि PU में संविदा पर तृतीय और चतुर्थवर्गीय कर्मचारियों की बहाली आउटसोर्सिंग से करेगा। इसके मद्देनजर राज्य सरकार को पांच वर्षों के लिए 51.10 करोड़ का प्रस्ताव भेजा गया है। मीटिंग में कुल 88 सीनेट सदस्यों ने भाग लिया। पूर्व कुलपति प्रोफेसर एलएन राम तथा प्रोफेसर आरबीपी सिंह सभा के अंत तक मौजूद रहे।

सदस्यों को दी गई जानकारी
यह सीनेट कई मायने में पूर्व के सीनेट से भिन्न देखा गया। पहली बार सीनेट की बैठक इतने लंबे समय तक चली। कुलपति के अभिभाषण कुल 1 घंटे का था, जिसमें उन्होंने विश्वविद्यालय के सभी कार्यकलापों का विस्तार से वर्णन किया तथा सदस्यों को सभी बिंदुओं से अवगत कराया। साथ ही अपने मिशन तथा विजन के बारे में सदस्यों को जानकारी दी। बजट भाषण प्रति कुलपति प्रोफेसर अजय कुमार सिंह द्वारा दिया गया। सभी सदस्यों ने एक एक प्रस्ताव को ध्यानपूर्वक सुना। वार्षिक प्रतिवेदन प्रोफेसर एसबी लाल तथा अध्यादेश विनिमय तथा अन्य संशोधन का प्रस्ताव डॉक्टर नवीन कुमार आर्य ने रखा ।

सरकार से बातचीत करने के लिए अनुरोध
एकेडमिक काउंसिल के प्रस्तावों को अनुमोदन हेतु डॉक्टर मुरारी शरण मांगलिक ने रखा। सभी प्रस्तावों को सदस्यों ने ध्वनिमत से पास कर दिया। बैठक में सदस्यों ने विकास के कई प्रस्ताव तथा एकेडमिक डेवलपमेंट के विभिन्न समस्याओं के बारे में विस्तार से जानना चाहा। सुरक्षा एवं आधारभूत संरचना, विभिन्न विभागों के खोले जाने आदि विभिन्न मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की। DDE का मुद्दा मुख्य रूप से सदस्यों ने उठाया और उनके कर्मचारियों की समस्याओं के बारे में तथा उनके स्थाई समाधान के लिए सरकार से बातचीत करने के लिए कुलपति से आग्रह किया।

वित्त समिति के सदस्यों का हुआ चुनाव
कुलपति ने सभी सदस्यों की समस्याओं को गंभीरता से सुना तथा उनके उचित समाधान का आश्वासन दिया। पहली बार वित्त समिति के सदस्यों के लिए चुनाव हुआ, जिसमें सुबोध कुमार, विजय कुमार सिंह तथा प्रोफेसर कामेश्वर पंडित निर्वाचित किए गए। अंत में धन्यवाद प्रस्ताव पूर्व कुलपति प्रोफेसर आरबीपी सिंह द्वारा दिया गया और डॉ. सिंह ने कुलपति प्रोफेसर गिरीश कुमार चौधरी को सदन की कार्यवाही को सुचारू रूप से और इतने सिस्टमैटिक ढंग से चलाने के लिए विशेष बधाई दी। उन्होंने अंत में कहा कि पहली बार युवा सदस्यों ने बहुत ही विकासात्मक प्रश्न उठाए हैं। पटना विश्वविद्यालय के विकास की दिशा को तय करने का एक मार्ग प्रशस्त हुआ है, यह विश्वविद्यालय के लिए अच्छी बात है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

और पढ़ें