पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Popular Front Of India | PFI Posters Of Controversial Organisation Puts Up In Bihar Katihar, Purnia, Darbhanga

PFI ने विवादित पोस्टर चिपकाए:कटिहार, पूर्णिया और दरभंगा में उकसाने वाली टिप्पणी के साथ बाबरी मस्जिद के विवादित ढांचे वाली तस्वीरें DM-SP ऑफिस के सामने लगाईं

पूर्णिया/दरभंगा/कटिहार8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कटिहार समाहणालय के सामने चिपकाए गए पोस्टर। - Dainik Bhaskar
कटिहार समाहणालय के सामने चिपकाए गए पोस्टर।
  • पोस्टर में लिखा, 6 दिसंबर के दिन को भूल न जाएं
  • दो दिन पहले ही देश भर में PFI के ठिकानों पर छापे पड़े थे

बिहार में कटिहार, पूर्णिया और दरभंगा में कई जगहों पर पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) की ओर विवादित पोस्टर लगाए गए हैं। इन पोस्टरों में बाबरी मस्जिद को लेकर उकसाने वाली टिप्पणी लिखी गई है। इसमें इस बात का आह्वान किया गया है, 6 दिसंबर के दिन को भूल न जाएं। इन पोस्टरों में बाबरी मस्जिद के तीनों गुंबदों की तस्वीर है। ऐसे पोस्टर कटिहार में समाहरणालय गेट पर, एसपी कार्यालय और डीएम के दफ्तर के बाहर लगाए गए हैं, जबकि पूर्णिया में जेल चौक और आस्था मंदिर चौक के पास और दरभंगा में भी कई जगहों पर लगाए हैं। पुलिस के अनुसार मामले की जांच करवाई जा रही है। पुलिस पूरी तरह से अलर्ट मोड में है।

3 दिन पहले ही ED ने की थी छापेमारी

6 दिसंबर 1992 को ही अयोध्या में बाबरी मस्जिद का विवादित ढांचा गिराया गया था। इसी को लेकर PFI के कार्यकर्ताओं की ओर से ऐसे पोस्टर लगाए गए हैं। अभी तीन दिन पहले ही बिहार के दरभंगा और पूर्णिया समेत देश के कई राज्यों में PFI से जुड़े लोगों और दफ्तरों पर प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा छापेमारी की गई थी। हालांकि यह छापेमारी CAA, NRC के खिलाफ देश भर में हुए विरोध प्रदर्शनों में विदेशी फंडिंग को लेकर की गई थी। दरभंगा में PFI के जनरल सेक्रेटरी मो. सनाउल्लाह के घर पर छापेमारी की गई थी। उधर, पूर्णिया के राजाबाड़ी स्थित PFI के दफ्तर पर भी ED की टीम ने धावा बोला था। इन दोनों जगहों पर PFI के कार्यकर्ताओं ने ED की छापेमारी की लेकर हंगामा किया था। दरभंगा में ED के पदाधिकारियों की गाड़ी का काफी देर तक घेराव भी किया गया था। पूर्णिया में समाहरणालय के सामने धरना प्रदर्शन भी किया गया था।

प्रशासन अलर्ट
इधर, पोस्टर चस्पा होने के बाद प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट हो गया है। मुख्यालय की ओर से कटिहार समेत आसपास के जिलों के पुलिस अधिकारियों को चाक-चौबंद सुरक्षा रखने का निर्देश दिया है। पुलिस के अनुसार 6 दिसंबर को विधि व्यवस्था बनी रहे, इसके लिए सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। इसके अलावा सोशल मीडिया पर भी नजर रखी जा रही है।

क्या है PFI

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) का गठन 2006 में किया गया था। PFI लोगों को उनके हक दिलाने और समाजसेवा का दावा करता है। 16 राज्यों में फैले इस संगठन की महिला विंग भी है। झारखंड में PFI पर बैन भी लगाया गया था। झारखंड सरकार को इसके कुछ सदस्यों के सीरिया में लिंक मिले थे। 2018 में केरल में भी इसको प्रतिबंधित करने की मांग उठी थी। ये मांग एर्नाकुलम में एक छात्र की हत्या के बाद उठी थी। अब यूपी में हुई हिंसा में इस संगठन का हाथ होने का आरोप है। यूपी में पिछले 6 महीनों में संगठन काफी तेजी से फैला है।

खबरें और भी हैं...