नियोजित शिक्षकों को लालू-पुत्रों का सहारा:विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव से पूछकर रणनीति बना रहे कांट्रैक्ट वाले टीचर, तेजप्रताप भी साथ आए, बवाल बढ़ने के आसार

पटना2 वर्ष पहले
गर्दनीबाग धरना स्थल पर बड़ी संख्या में मौजूद हैं नियोजित शिक्षकअभ्यर्थी।
  • नियोजित शिक्षक अभ्यर्थियों को राबड़ी आवास के पास सचिवालय पुलिस ने रोका
  • राबड़ी आवास पर तैनात सुरक्षाकर्मियों और सचिवालय पुलिस के बीच झड़प हुई

नियोजित शिक्षक अभ्यर्थियों के आंदोलन को राजद ने हाथों-हाथ लिया है। बुधवार को तेजस्वी यादव पटना के ईको पार्क में नियोजित शिक्षकों से मिलने गए थे। वे आंदोलनरत अभ्यर्थियों के बीच काफी देर तक रहे और उनकी बातें सुनीं। इसके बाद गर्दनीबाग धरना स्थल तक पैदल मार्च भी किया था। इससे उत्साहित शिक्षक अभ्यर्थी गुरुवार को तेजस्वी और तेजप्रताप से मिलने राबड़ी आवास पहुंच गए। तेजस्वी यादव ने नियोजित शिक्षक अभ्यर्थी नेता राजेंद्र प्रसाद सिंह के साथ संगठन के दो और नेताओं से मुलाकात की। उनसे आगे की रणनीति पर चर्चा की। राबड़ी आवास में चल रही बैठक में नियोजित शिक्षक अभ्यर्थियों के अलावा बिहार पुलिस चतुर्थ कर्मचारियों का संगठन, विधुत विभाग कर्मचारियों का संगठन और एएनएम संगठन से जुड़े लोगों ने भी अपनी-अपनी समस्याओं को लेकर नेता प्रतिपक्ष से बातचीत की।

तेजस्वी यादव से मुलाकात करने पहुंचे शिक्षक अभ्यर्थियों के नेता राजेंद्र प्रसाद सिंह।
तेजस्वी यादव से मुलाकात करने पहुंचे शिक्षक अभ्यर्थियों के नेता राजेंद्र प्रसाद सिंह।

राबड़ी आवास पर झड़प
इससे पहले राबड़ी आवास पर शिक्षक अभ्यर्थियों को लेकर वहां तैनात सुरक्षागार्ड और सचिवालय थाने की पुलिस के बीच झड़प हो गई। गुरुवार की सुबह कई नियोजित शिक्षक अभ्यर्थी तेजस्वी से मिलने राबड़ी आवास पहुंचे थे। इनके अलावा अलग-अलग मामलों को लेकर कुछ फरियादी भी नेता प्रतिपक्ष से मिलना चाहते थे। इस बीच सचिवालय पुलिस मौके पर पहुंच गई और लोगों को राबड़ी आवास के बाहर से हटाने लगी। आवास के बाहर हंगामा होता देख आवास के सुरक्षाकर्मी भी पहुंच गए। उन्होंने सचिवालय पुलिस को लोगों को यहां से नहीं भगाने की बात कही। इसपर दोनों के बीच कहासुनी बढ़ गई।

राबड़ी आवास के बाहर ड्यूटी पर तैनात सुरक्षाकर्मी और सचिवालय पुलिस के बीच झड़प।
राबड़ी आवास के बाहर ड्यूटी पर तैनात सुरक्षाकर्मी और सचिवालय पुलिस के बीच झड़प।

क्या बोले तेज प्रताप यादव
आवास पर तैनात एक सुरक्षाकर्मी ने सचिवालय थाने से आए पुलिसकर्मी से कहा, आप अपनी ड्यूटी कर रहे हैं तो हम भी यहां ड्यूटी कर रहे हैं। मामले को बढ़ता देख कुछ नेता भी मौके पर पहुंच गए। किसी तरह दोनों पक्षों को समझाकर मामले को शांत कराया। वहीं, इस मामले को लेकर तेजप्रताप यादव ने कहा कि सरकार बौखलाई हुई है। वीआईपी इलाके में सरकारी आवास के पास ऐसी हरकत दुर्भाग्यपूर्ण है। मीटिंग के दौरान इस तरह का काम निंदनीय है। बदतमीजी करने वाले इंस्पेक्टर पर कार्रवाई होनी चाहिए। राजद प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री को इस मामले में संज्ञान लेना चाहिए। सरकार असहज महसूस कर रही है। इस वजह से अपने मातहत काम करनेवाले तंत्रों का इस्तेमाल कर रही है। किसी नेता के घर पदस्थापित पुलिसकर्मी से इस तरह का बर्ताव करना दुर्भाग्यपूर्ण है। सीएम नीतीश कुमार के इशारे पर हुआ है। यह लोकतंत्र के लिए उचित नहीं है।

तेजस्वी यादव ने की थी मुलाकात
इससे पहले बुधवार की शाम को तेजस्वी यादव शिक्षक अभ्यर्थियों से मिलने ईको पार्क पहुंचे थे। नेता प्रतिपक्ष ने इस दौरान पहले सरकार के मुख्य सचिव दीपक कुमार और फिर पटना के DM चंद्रशेखर सिंह से बात की थी। तेजस्वी ने दोनों अधिकारियों से शिक्षक अभ्यर्थियों को प्रदर्शन के लिए स्थान उपलब्ध कराने की मांग की थी। कहा था कि धरना देना इनका लोकतांत्रिक अधिकार है, अगर इन्हें इससे वंचित किया गया, तो मैं भी इनके साथ यहीं धरना दूंगा। तेजस्वी यादव के हस्तक्षेप के बाद पटना के जिलाधिकारी चंद्रशेखर सिंह ने शिक्षक अभ्यर्थियों को धरना देने की अनुमति दी थी।

खबरें और भी हैं...