• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Raid In Bihar's Biggest Medicine Market In GM Road Patna; Injection And Medicine Recovered In Patna; Bihar Bhaskar Latest News

GM रोड में दो स्टाकिस्ट के यहां बड़ी छापेमारी:बिहार की सबसे बड़ी दवा मंडी में चल रहा था बड़ा खेल, फ्रीजर से मिली एंटी रैबीज इंजेक्शन, हाइपर टेंशन की दवाइयां कहां से आई पता नहीं

पटना20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मेडिकल शॉप में जांच टीम। - Dainik Bhaskar
मेडिकल शॉप में जांच टीम।
  • दो अलग अलग टीमों ने एक साथ ही छापेमारी, फर्जीवाड़े का हुआ खुलासा

बिहार की सबसे बड़ी दवा मंडी में एंटी रैबीज इंजेक्शन बिना कोल्ड चेन मेंटन किए ही बेची जा रही है। हाइपर टेंशन की दवाएं कहां से आ रही हैं, इसका भी पता नहीं चल रहा है। ऐसे कई दवाएं हैं जो संदिग्ध हैं और अब लैब की जांच में खुलासा होगा कि वह नकली है या असली। गुरुवार को दो अलग अलग टीमों ने एक साथ दोनों स्टाकिस्टों के यहां छापेमारी की है। देर शाम तक जांच पूरी नहीं हो पाई थी, पूरी टीम जांच में जुटी हुई है।

ड्रग कंट्रोलर से की गई थी गोपनीय शिकायत

ड्रग कंट्रोलर को गोपनीय शिकायत मिली थी कि पटना के GM रोड के SP घोष लेन में स्थित जय लक्ष्मी इंटर प्राइजेज और कुणाल फार्मा में नकली दवाएं बेंची जा रही हैं। इसकी जांच के लिए ड्रग कंट्रोलर ने दो टीम गठित की। दोनों टीमों में डॉ अमल और मनोज कुमार दास को अलग अलग जिम्मेदारी दी गई। एक टीम में 4 और दूसरी टीम में 5 लोगों को शामिल किया गया था। दोनों टीमों ने एक साथ दोनाें सेंटर पर छापेमारी की जिसमें बिना बिल के आई दवाओं के साथ और कई बड़ा खुलासा हुआ है।

पटना स्थित GM रोड में बिहार की सबसे बड़ी दवा मंडी है।
पटना स्थित GM रोड में बिहार की सबसे बड़ी दवा मंडी है।

कहां से आई हाइपर टेंशन की दवाएं

दोनों टीमा की छापेमारी में सबसे बड़ा सवाल हाईपर टेंशन की दवाओं को लेकर आया है। जय लक्ष्मी इंटर प्राइजेज और कुणाल फार्मा दोनों सेंटर पर हाईपर टेंशन की दवाएं ऐसी मिली हैं जिनका बिल नहीं है। दवाएं पूरी तरह से संदिग्ध है और इसकी जांच के लिए अन्य दवाओं के साथ हाईपर टेंशन की दवाओं का भी सैंपल जांच के लिए भेजा गया है। छापेमारी टीम में शामिल डॉ अमल का कहना है कि जय लक्ष्मी इंटर प्राइजेज से गैस, हाईपर टेंशन के साथ अन्य कई दवाएं मिली हें जो संदिग्ध हैं। जांच के लिए 6 तरह की दवाओं का सैपल लिया गया है। इसके साथ ही एंटी रैबीज इंजेक्शन जो फ्रिज में हाेना चाहिए वह बाहर मिली है। कई ऐसी दवाएं हैं जिनका बिल नहीं दिया गया है। वह कहां से कब मंगाई गई इसकी कोई जानकारी नहीं दी गई है। ऐसी दवाओं का डेटा लेकर उनकी बिक्री पर रोक लगा दिया गया है।

कुणाल फार्मा में भी मिली गई संदिग्ध दवाएं

कुणाल फार्मा में भी संदिग्ध दवाएं मिली हैं। इसमें हाईपर टेंशन की दवाओं के साथ गैस की दवाएं व एंटीबायोटिक शामिल हैं। 5 तरह की दवाओं का सैपल जांच के लिए भेजा गया है। अधिक संख्या में ऐसी दवाए भी मिली हैं जिनका बिल दुकानदार के पास नहीं था। वह कहां से कब आई इसका कोई पता नहीं चल सका है। दवाओं की जांच के लिए सैंपल भेजा गया है तथा जिसका बिल नहीं है उसकी बिक्री पर रोक लगा दी गई है। औषधि विभाग के डॉ अमल का कहना है कि जांच के बाद रिपोर्ट सहायक औषधि नियंत्रक को भेज दी गई है अब विभाग की तरफ से इस मामले में कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...