• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Rain And Flood; Bihar Uttar Pradesh Road Damages, Which Was Constructed 8 Years Ago

5 फीट अंदर धंसी बिहार-UP को जोड़ने वाली सड़क:8 साल पहले 500 करोड़ में हुआ था निर्माण, CM ने किया था उद्घाटन; बारिश ने खोल दी गुणवत्ता की पोल

बेतिया/बगहा4 महीने पहले
गुरुवार की रात से लगातार हुई बारिश के बाद सड़क धंस गई है।

एक सड़क जमीन के 5 फीट अंदर धंस गई। इससे आवागमन रुक गया। दो प्रदेश एक-दूसरे से कट गए। उनको जोड़ने का यह बड़ा जरिया था। धंसी हुई सड़क के दोनों ओर वाहनों की कतारें लगी हैं। यह वाक्या आपको अजीब लगा रहा होगा, लेकिन सौ टका सच है। यह सड़क बिहार और उत्तर प्रदेश को जोड़ती है। घटना नैनाहा ढाला के पास की है। 500 करोड़ की लागत से बनी इस सड़क का उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 26 नवंबर 2013 को किया था। जाहिर है सड़क महज आठ साल पुरानी है। बेतिया में हुई तेज बारिश ने सड़क की गुणवत्ता की पोल खोल दी।

जाम में फंसी दुल्हन की गाड़ी।
जाम में फंसी दुल्हन की गाड़ी।

2010 में रतवल से धनहा तक गौतम बुद्ध सेतु को जोड़ने के लिए अप्रोच बांध और सड़क का निर्माण कराया गया था। बिहार राज्य पुल निर्माण निगम द्वारा गंडक नदी में पुल का निर्माण कराते हुए धनहा से रतवल तक इस मुख्य मार्ग और गौतम बुद्ध सेतु का निर्माण कराया गया था। CM ने घनहा गौतम बुद्ध सेतु पहुंचकर इस सड़क का उद्घाटन किया था। यह सड़क ही बिहार और UP को जोड़ती है।

सड़क धंसने की वजह से गाड़ियों की लगी लंबी लाइन।
सड़क धंसने की वजह से गाड़ियों की लगी लंबी लाइन।

कई गांवों पर मंडरा रहा खतरा
इस सड़क को बनाने के लिए पहले बांध का निर्माण किया गया है। सड़क और बांध बनने की वजह से यहां के दर्जनों गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। करीब 10 गांवों के ऊपर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। यहां के नैनाहा, करैया बसौली, पकाहा, मानपुर, उरदही, चुरही, सिसही आदि गांव में गंडक नदी का पानी घुस जाएगा, जिसमें दर्जनों गांव के लोगों के लिए मुसीबत खड़ी हो सकती है।
दूल्हा-दुल्हन समेत सैकड़ों गाड़ियां फंसी
गुरुवार की रात से लगातार हुई बारिश के बाद सड़क धंस गई है। मुख्य मार्ग होने के कारण सैकड़ों की संख्या में गाड़ियां फंसी हुई हैं। एक दूल्हा और दुल्हन भी लाइन में लगे हुए हैं। दूल्हे का कहना है कि करीब 5 घंटे से फंसा हुआ हूं। निकलने का कोई रास्ता ही नहीं दिख रहा है। खबर लिखे जाने तक प्रशासन का कोई पदाधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा है। विभाग से जुड़े कोई भी कर्मचारी और अधिकारी भी नहीं दिखे हैं। इसको लेकर भी स्थानीय लोगों में आक्रोश है।

खबरें और भी हैं...