पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Ram Vilas Paswan Death Anniversary News Update; Chirag Paswan Pashupati Paras Meet After Four Months In Patna

रामविलास पासवान की पहली बरसी का कार्यक्रम:पटना में चिराग के आवास पर जुटा पूरा पासवान परिवार, चार महीने बाद चाचा पशुपति पारस भी आए साथ

पटना6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पूजा पर बैठे चिराग पासवान और दाहिने तरफ चेयर पर केंद्रीय मंत्री चाचा पशुपति कुमार पारस। - Dainik Bhaskar
पूजा पर बैठे चिराग पासवान और दाहिने तरफ चेयर पर केंद्रीय मंत्री चाचा पशुपति कुमार पारस।

लोक जनशक्ति पार्टी के अंदर चल रहे विवाद के बीच करीब 4 महीने बाद आज पहली बार चाचा और भतीजा एक साथ एक छत के नीचे दिखे। मौका दिवंगत नेता रामविलास पासवान की पहली बरसी का है। घर के हॉल में चिराग पासवान पूजा पर बैठे थे और उनकी दाहिने तरफ चंद कदम की दूरी पर चेयर के ऊपर केंद्रीय मंत्री चाचा पशुपति कुमार पारस बैठे थे।

पूजा शुरू होने के पहले चाचा पशुपति कुमार पारस पटना के श्रीकृष्णा पुरी इलाके में घर पर पहुंचे। चिराग ने पैर छूकर उनका स्वागत किया। हालांकि, चाचा अपने भतीजे से उस तरह से बात करते नहीं दिखे, जैसे वह पारिवारिक और राजनीतिक स्तर पर चल रहे विवाद के पहले बात किया करते थे। दोनों के बीच की दूरियां साफ तौर पर दिख रही थी। चाचा पारस पूजा शुरू होने से कुछ समय पहले पहुंचे थे। वैसे वो बरसी की पूजा में शामिल होने के लिए शनिवार को ही दिल्ली से पटना आ गए थे।

रामविलास पासवान की पहली बरसी पर PM का लेटर

बरसी पर जुटा पासवान का पूरा परिवार
लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक रहे रामविलास पासवान की पहली बरसी के मौके पर पूरा पासवान परिवार जुटा है। उनकी दोनों बेटी आशा और उषा पति के साथ कार्यक्रम में शामिल हुईं, चचेरे भाई भी आए हैं। मंत्रोचार के साथ बरसी की पूजा भी शुरू हो चुकी है। काफी संख्या में लोजपा के नेता और कार्यकर्ता भी यहां आ चुके हैं। बरसी की पूजा के बाद चिराग पासवान ने महाप्रसाद की तैयारी की है। इसके लिए कई दिनों से पार्टी के कार्यकर्ता बड़े स्तर पर तैयारियों में जुटे थे।

PM और CM ने पहली बरसी पर दी श्रद्धांजलि
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामविलास पासवान के लिए दो पेज का संदेश चिराग पासवान को भेजा है। प्रधानमंत्री ने कॉल कर चिराग पासवान से बात भी की। यह कॉल शनिवार की देर रात आया था। लेटर के जरिए अपना संदेश भेजने, कॉल कर बात करने और परिवार का हालचाल लेने पर चिराग ने प्रधानमंत्री का आभार जताया है। इधर, आज बिहार के CM नीतीश कुमार ने भी पासवान को श्रद्धांजलि दी है। हालांकि नरेंद्र मोदी ने जहां 39 पंक्तियों में श्रद्धांजलि दी, वहीं नीतीश कुमार ने महज एक लाइन में श्रद्धांजलि दी

जून माह में शुरू हुए विवाद में बंट गई थी पार्टी और परिवार
जून में पार्टी और उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के साथ-साथ लोकसभा में संसदीय दल के नेता को लेकर चाचा-भतीजा में विवाद खुलकर सामने आ गया था। उस दौरान बीमार हालत में ही चिराग दिल्ली में खुद से गाड़ी ड्राइव कर अपने चाचा पशुपति कुमार पारस से मिलने उनके घर गए थे। पहले तो काफी देर तक चिराग को मेन गेट के खुलने को इंतजार करना पड़ा। फिर घर के अंदर गए तो चाचा ने उनसे मुलाकात नहीं की।

इसके बाद 4 सांसदों और पार्टी के दूसरे नेताओं को अपने पक्ष में कर चाचा ने लोक जनशक्ति पार्टी को दो भाग में बांट दिया। बीमार भतीजे को अकेले छोड़ दिया। फिर पटना में मीटिंग कर पशुपति कुमार पारस ने खुद को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया। साथ ही लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिड़ला से सभी सांसदों के साथ मिले और खुद सदन में पार्टी के नेता बन गए। अब तो वो केंद्र में मंत्री भी हैं।

खबरें और भी हैं...