पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Tejashwi Yadav | RJD Bihar Family Politics: JDU's Chief Spokesperson Neeraj Kumar Attacks On Tejashwi Yadav

तेजस्वी की ताजपोशी पर JDU के सवाल:नीरज बोले- नीतीश कुमार ने परिवार छोड़ सबको राजनीति में सम्मान दिया, लालू यादव ने राजनीति को परिवारवाद की भेंट चढ़ाया

पटना5 दिन पहले
नीरज कुमार, प्रवक्ता, JDU

बिहार की सत्तारूढ़ पार्टी जनता दल यूनाईटेड (JDU) ने तेजस्वी यादव की होने वाली ताजपोशी पर सवाल खड़ा किया है। मुख्य प्रवक्ता नीरज कुमार ने तंज कसते हुए कहा- 'सुना जा रहा है कि राष्ट्रीय जनता दल (RJD) में नई ताजपोशी की तैयारी चल रही है, वो भी परिवार से ही। यूं भी नेता प्रतिपक्ष के पद पर भी पहले से ही वरिष्ठ नेताओं को दरकिनार कर परिवार के ही तेजस्वी यादव काबिज हैं। जेपी और लोहिया की विचारधारा को मानने वाले लालू यादव परिवारवाद के मोह में सब-कुछ भूल गए। वहीं, नीतीश कुमार आज भी परिवारवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं'।

लोहिया-जेपी को याद करते हुए कहा- 'लोहिया ने जवाहरलाल नेहरू के खिलाफ फूलपुर से चुनाव लड़ने की घोषणा की थी तो उद्देश्य नेहरू को हराना नहीं, बल्कि राजनीति में परिवारवाद के खिलाफ आवाज बुलंद करना था। बिहार की राजनीति में कांग्रेस की परिवारवादी राजनीति के खिलाफ खड़ा हुआ जेपी आंदोलन और राम मनोहर लोहिया की विचारधाराओं के दो प्रमुख उपज थे नीतीश कुमार और लालू यादव। एक तरफ नीतीश कुमार ने राजनीति में परिवारवाद के खिलाफ मुहिम को आज तक जारी रखा है। दूसरी तरफ लालू यादव सत्ता हासिल करते ही मूल विचारधारा को परिवार के मोह में क्यों भूल गए, इसका जवाब उन्हें देना चाहिए'।

22 महीने के कार्यकाल में तेजस्वी ब्रदर्स ने क्या किया

RJD की वेबसाइट पर आपको सात चेहरे दिखेंगे, जिसमें पांच लालू परिवार से हैं। जबकि गौर से देखेंगे तो अब्दुल बारी सिद्दीकी आखिरी पंक्ति से झांकते हुए दिखेंगे। लालू परिवार ने परिवारवाद का ऐसा खेल खेला कि RJD को पूरी जिंदगी देने वाले विद्वान नेता भी कॉलेज का मुंह नहीं देखने वालों के पीछे रह गए। उनकी कारस्तानी ऐसी है कि उन्हें लोहिया-जयप्रकाश का नारा लगाना भूलना श्रेयस्कर होगा।

नीरज कुमार ने JDU-RJD के साथ बनाई गई 2015 वाली सरकार का जिक्र करते हुए कहा कि 2015 के चुनाव के बाद RJD को उप मुख्यमंत्री पद समेत 12 मंत्रिमंडल दिए गए, जिसमें से 6 मंत्रिमंडल पार्टी के दो राजकुमारों को थमाने का गुनाह किया। वरीय नेताओं के अनुभव और उम्र की वरीयता भी दरकिनार कर दी। क्या राजकुमार बताएंगे कि 22 महीने के कार्यकाल में इन्होंने बिहार के विकास के लिए क्या किया?

RJD में परिवार के सदस्यों की संख्या ज्यादा

JDU नेता ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष का पद, नेता प्रतिपक्ष का पद या अन्य कोई महत्वपूर्ण पद। JDU में कभी भी किसी परिवार का आधिपत्य नहीं रहा है। JDU द्वारा लोकसभा, राज्यसभा से लेकर विधानसभा और विधान परिषद तक भेजे जाने वाले लोगों में राजनीतिक परिवार से संबंध रखने वालों की संख्या भी RJD से कम है।

खबरें और भी हैं...