• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • RJD Leader Manoj Jha Statement On Covid Pandemic; Rajya Sabha Speech On Social Media

कोविड में हुई मौतों को RJD ने कलेक्टिव फेल्योर बताया:राज्यसभा में मनोज झा ने सभी पार्टियों से की साझा माफीनामा जारी करने की मांग, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा भाषण

पटना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मनोज झा, राजद से राज्यसभा सांसद। - Dainik Bhaskar
मनोज झा, राजद से राज्यसभा सांसद।

RJD के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राज्यसभा सदस्य मनोज झा ने राज्य सभा में कोरोना काल की वेदना को अपने शब्द दिए। उन्होंने माफी मांगी और सत्ता सहित सभी पार्टियों से कहा कि साझा माफीनामा उनके नाम जारी करें, जिनकी मौत कोविड-19 से हुई। उन्होंने कहा कि यह कलेक्टिव फेल्योर है। साथ ही बताया कि डेढ़ महीने देश के विभिन्न राज्य के लोगों ने कैसे बिताया है, बता नहीं सकता ! जय हिंद बोलने में भी वह खुलूस नहीं हो रहा है। हालांकि, उन्होंने अपने भाषण के अंत में जय हिंद भी कहा। मनोज झा का यह भाषण सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। लोग इसे काफी पसंद कर रहे हैं।

पार्टी में नए नेता की तलाश
मनोज झा की खासियत यह है कि उनके पास शब्द बहुत तराशे हुए होते हैं। वे वाक पटु नेता हैं। उनका यह भाषण ऐसे समय में सामने आया है, जब उनकी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल के अंदर तेजस्वी यादव को बागडोर सौंपने की बात हो रही है और उसका तरीका तलाशा जा रहा है। प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह अब प्रदेश अध्यक्ष नहीं रहना चाहते और ऐसे में इस पद के लिए उसी तेवर के नेता की तलाश हो रही है।

पार्टी के अंदर ही सवाल उठते रहे हैं
कोविड काल में बड़े नेता कहां थे ? यह सवाल पार्टी के बाहर की बात तो दूर पार्टी के अंदर से ही उठा। पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद शहाबुद्दीन जब अस्पताल में थे तब उनकी सुधि लेने वाला कोई बड़ा नेता नहीं था और न मौत के बाद अंतिम संस्कार में कोई बड़ा नेता पहुंचा। बाद में घर पर जाकर कई नेताओं ने शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा से मुलाकात की। तब तक कोरोना का कहर कम हो चुका था बिहार में। बात यहीं तक नहीं है, खुद लालू पुत्र तेजप्रताप यादव ने पार्टी के स्थापना दिवस के दिन सार्वजनिक रुप से कहा था कि वे एक जरूरतमंद के लिए फोन करते रहे और किसी वरिष्ठ नेता ने उनका फोन तक नहीं उठाया। तेजप्रताप यादव गुस्से में कई बार सच बोल जाते हैं। उस समय तेजस्वी यादव को मंच से यह कहते हुए माफी मांगनी पड़ी थी कि वे छोटे हैं, मांफी मांगते हैं।

सवर्ण आरक्षण का विरोध कर चुके हैं लेकिन उम्र में छूट दिलवा दीजिए

मनोज झा को राज्य सभा में दिए भाषण पर सोशल मीडिया पर खूब वाहवाही मिल रही है। लेकिन इसके बाच विकाश ब्रह्मर्षि नामक फॉलोवर ने लिखा है कि- सर सवर्ण आरक्षण का तो आप विरोध कर चुके हैं लेकिन अब सवर्ण को आरक्षण मिल चुका तो उम्र सीमा में छूट भी अन्य आरक्षित सीटों की तरह दिलाने के लिए राज्य सभा में एक बार सवाल उठा दीजिए। आप के ऊपर सवर्ण छात्रों की बहुत मेहबानी होगी।

सीमित संसाधन में सरकार ने जो किया वह जहजाहिर है

मनोज झा के भाषण पर JDU प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि कोविड की आपदा में बिहार जैसे राज्य ने अपने सीमित संसाधन के साथ जो किया वह जगजाहिर है। इसके बावजूद मनोज झा क्या बोलते हैं, वे वही जानें।

खबरें और भी हैं...