• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Sikarhatta Majhari Following Dam Broke Down, Water Of Kosi River Mixed In Tilyuga, Water Entered The Homes Of More Than 3 Thousand People

सुपौल पर मंडरा रहा पलायन का खतरा:सिकरहट्टा-मझारी निम्न बांध टूटकर बहा, तिलयुगा में जा मिला कोसी नदी का पानी, 3 हजार से अधिक लोगों के घरों में घुसा पानी

सुपौल4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुपौल में आई बाढ़ का दृश्य। - Dainik Bhaskar
सुपौल में आई बाढ़ का दृश्य।
  • डीएम-एसपी समेत अधिकारियों ने लिया जायजा

बिहार के सुपौल में कोसी नदी उफान पर है जबकि मानसून के तेवर अभी तल्ख होना बाकी है। लेकिन इससे पहले ही जल संसाधन विभाग और राज्य सरकार के सुरक्षात्मक उपायों को लेकर किया जा रहे दावो की पोल खुल गई है।

बताया जा रहा है कि शुक्रवार की सुबह डगमारा पंचायत के तुल्याही गांव के पास पश्चिमी कोसी तटबंध पर बनी सिकरहट्टा-मझारी निम्न बांध टूट गया है। इससे तटबंध के बाहर के गांव और शहर के लोगों की परेशानी बढ़ गई है। इस बांध के टूटने से कोशी नदी का पानी तिलयुगा नदी में जाने लगा है जिसके कारण पानी का बहाव तेज हो गया है। जबकि निर्मली-कुनौली सहित कई गांवों की सड़कों का संपर्क भी भंग हो गया है। बता दें कि बाढ़ के कारण अब तक करीब 3 हजार से अधिक घरों में पानी घुसा हुआ है।

वहीं, घटना की सूचना मिलते ही घटनास्थल पर पहुंचे निर्मली प्रखंड प्रमुख रामप्रवेश कुमार यादव ने ये जानकारी डीएम-एसपी समेत अन्य अधिकारियों को दी। ऐसे में इस सूचना पर डीएम, एसपी, डीडीसी व जलसंसाधन विभाग के चीफ इंजीनियर समेत दर्जनों अधिकारी कटाव स्थल के पास पहुंच कर कैंप कर रहे हैं।

बता दें कि तीन दिन पहले कोसी नदी के बढ़े जलस्तर के कारण सुरक्षा बांध टूट गया था, जिसे सूचना के बाद भी विभाग ने दुरुस्त नहीं करवाया। यहीं वजह है कि टूटे तटबंध होकर पानी का तेज बहाव सिकरहट्टा-मझारी निम्न बांध पर दवाब बनाने लगा और शुक्रवार अहले सुबह दूसरा बांध भी कट कर बह गया। ग्रामीणों में जल संसाधन विभाग के प्रति तीव्र आक्रोश है।कटाव स्थल पर ग्रामीण समेत जनप्रतिनिधियों ने बताया कि जलसंसाधन विभाग की लापरवाही और प्री-प्लांड के गलतियों के कारण यह बांध टूटा है।

बता दें कि निम्न बांध के टूटने से सुपौल के निर्मली, मरौना और मधुबनी जिले के लौकही प्रखंड की एक बड़ी आबादी बाढ़ से प्रभावित हो सकती है। कटाव स्थल से बह रहा पानी निर्मली में NH 57 के भुतहा चौक से मरौना जाने वाली सड़क से पहले बह रही तिलयुगा नदी में समा रही है। वहीं अगर इसका समय रहते समाधान नहीं किया गया तो भयानक तबाही देखने को मिल सकती है।

खबरें और भी हैं...