• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • SSB Constable Mitan Ram Last Ritual In Sitamarhi; Constable Mitan Ram Martyred During Training In J&K; Bihar Bhaskar Latest News

पार्थिव शरीर का एक झलक पाने के लिए उमड़ी भीड़:अंतिम दर्शन के दौरान बेहोशी हो गईं मां और पत्नी, भारत माता की जय, मीतन राम अमर रहे के गूंजे नारे

सीतामढ़ी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अंतिम दर्शन के दौरान लोगों की भीड़। - Dainik Bhaskar
अंतिम दर्शन के दौरान लोगों की भीड़।

जम्मू -कश्मीर में तैनात एसएसबी के हेड कांस्टेबल मितन राम एआईआरटी ट्रेनिंग के दौरान शहीद हो गए थे। रविवार को सीतामढ़ी के फतहपुर गिरमिसानी उनके पैतृक गांव में अंतिम संस्कार किया गया। श्रीनगर से पार्थिव शरीर विशेष विमान से शनिवार की देर रात पटना पहुंच गया था।

रविवार की सुबह पटना से शहीद के पार्थिव शरीर को लेकर सेना के जवान पैतृक गांव फतहपुर के लिए निकले, जैसे ही काफिला सीतामढ़ी जिले की सीमा में प्रवेश किया सड़कों के किनारे खड़े बड़ी संख्या में लोग भारत माता कि जय और मितन राम अमर रहे के नारे लगाते हुए पुष्प वर्षा करने लगे। अंतिम दर्शन के दौरान जवान मितन राम की पत्नी और मां बार-बार बेहोश हो जा रही थीं।

गॉर्ड ऑफ ऑनर दे रहे हैं जवान।
गॉर्ड ऑफ ऑनर दे रहे हैं जवान।

घर में अंतिम दर्शन को हजारों की भीड़
मितन के पार्थिव शरीर के दर्शन को लेकर लोग शनिवार से ही बेचैन थे। हालात यह हो गई कि घर पर अंतिम दर्शन के लिए हजारों लोगो की भीड़ उमड़ पड़ी. घंटों इंतजार के बाद शहीद मितन राम का शव जब घर पहुंचा तो अपने लाल को देख कर हर किसी की आंखें नम हो गईं। घर पर पिता जगीर राम मां और पत्नी सुमन देवी सहित परिवार के लोगों ने अंतिम दर्शन किया। इस दौरान मां और पत्नी बेहोश हो गईं।

शहीद जवान की पत्नी बार-बार हो रही हैं बेहोश।
शहीद जवान की पत्नी बार-बार हो रही हैं बेहोश।

एक झलक पाने को बेताब दिखीं हजारों आंखें
घर की छत चहारदीवारी और सड़कों पर भारी संख्या में भीड़ शहीद का एक झलक पाने के लिए बेताब रही। घर से सेना के जवान शहीद के पार्थिव शरीर को कंधे पर लेकर तीन किलोमीटर दूर अंत्येष्टि स्थल तक तिरंगा यात्रा के साथ ले गए। यहां सलामी के बाद अंतिम संस्कार किया गया।

बड़ी संख्या में शामिल हुए पूर्व सैनिक
शहीद हुए हेड कांस्टेबल के अंतिम यात्रा के लिए वेटरन्स इंडिया सीतामढ़ी(अखिल भारतीय पूर्व सैनिक संगठन) एवं लक्ष्मी नगर सोसाइटी के सौजन्य से पूर्व सैनिक अनिल कुमार एवं मुकेश यादव के नेतृत्व में गाजे बाजे और तिरंगा के साथ बसवरिया से स्थानीय समाजसेवी और सैकड़ों पूर्व सैनिक का जत्था शहीद के अंतिम विदाई में शामिल हुआ। इस मौके पर पूर्व सैनिक संजय यादव, संगठन के अध्यक्ष सुबेदार मेजर रामबाबू महतो, सूबेदार राम एकवाल भगत, रोहित कुमार, हेमेंद्र कुमार, रोशन कुमार, पंकज झा, संतोष कुमार, एसएसबी 51वीं बटालियन के अधिकारी एवं जवान समेत स्थानीय जनप्रतिनिधि हजारों की संख्या में स्थानीय लोग शामिल हुए।

खबरें और भी हैं...