• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Statement Of Senior RJD Leader Shivanand Tiwari In Muzaffarpur, Said Kanhaiya Kumar Specializes In The Art Of Giving Speeches

RJD नेता का तंज- कन्हैया को अध्यक्ष बनाए कांग्रेस:पूर्व मंत्री शिवानंद तिवारी बोले- भाषण देने की कला में माहिर हैं कन्हैया कुमार, राहुल गांधी के साथ मेरी सहानुभूति

मुजफ्फरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुजफ्फरपुर में पत्रकारों से बातचीत के दौरान RJD के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी। - Dainik Bhaskar
मुजफ्फरपुर में पत्रकारों से बातचीत के दौरान RJD के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी।

RJD के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कन्हैया कुमार को भाषण देने की कला में माहिर बताया। उन्होंने कहा कि उनके जैसा भाषण कोई नहीं दे सकता। हम तो भाषण देने में बहुत पीछे हैं। कांग्रेस जॉइन करते समय कन्हैया कुमार ने कहा था कि कांग्रेस एक डूबता हुआ जहाज है, जिसे बचाना है। अगर बड़ा जहाज नहीं बचेगा तो छोटी-छोटी कश्तियों का क्या होगा? इस बयान को उन्होंने ऐतिहासिक करार दिया है।

शिवानंद तिवारी ने कहा कि एक समय वामपंथी कन्हैया कुमार में अपना भविष्य देख रहे थे। अब कांग्रेस उनमें अपना भविष्य देख रही है। कन्हैया कुमार को ही कांग्रेस अपना अध्यक्ष बना दे। पिछले दो साल से ऐसे भी वहां कोई स्थायी अध्यक्ष नहीं है।

तेजस्वी को क्या दिक्कत हो सकती है?
उन्होंने कन्हैया कुमार के कांग्रेस जॉइन करने पर तेजस्वी को मिलने वाली टक्कर और खतरे के सवाल पर कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान बेगूसराय में तेजस्वी के प्रत्याशी दूसरे स्थान पर रहे। कन्हैया कुमार तीसरे स्थान पर थे। ऐसे में अंदाज लगाया जा सकता है कि उनके कांग्रेस जॉइन करने से तेजस्वी को क्या दिक्कत हो सकती है। तेजस्वी को कन्हैया से कोई खतरा नहीं है। उन्होंने लोकसभा चुनाव में RJD प्रत्याशी को हराने का काम किया। बेगूसराय में सेक्युलर वोट को बांटकर भाजपा को फायदा पहुंचाने का काम किया। अब वो कांग्रेस में गए हैं। देखना है वहां क्या गुल खिलाते हैं।

कांग्रेस पार्टी पर भी ली चुटकी
कांग्रेस पर चुटकी लेते हुए उन्होंने कहा कि राहुल गांधी के साथ मेरी पूरी सहानुभूति है। उन्होंने पंजाब का जिक्र करते हुए सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह की लड़ाई की बात कही। कांग्रेस बाहरी व्यक्तियों पर ज्यादा विश्वास करती है। उन्होंने कहा कि जो पार्टी पिछले दो साल से अपना स्थायी अध्यक्ष नहीं चुन पा रही है। उसे तो पहले अपने व्यक्तियों पर विश्वास करना चाहिए। एक स्थायी अध्यक्ष का चयन करना चाहिए। मैं खुद चाहता हूं कि कांग्रेस मजबूत हो। इससे महागठबंधन मजबूत होगा।

खबरें और भी हैं...