मोतिहारी के एक्साइज सुपरिटेंडेंट के ठिकानों पर SVU की रेड:शराब माफियाओं का साथ दे रहे थे; पटना, मोतिहारी और खगड़िया में चल रही छापेमारी

पटना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मोतिहारी स्थित आवास पर पहुंची SVU की टीम। - Dainik Bhaskar
मोतिहारी स्थित आवास पर पहुंची SVU की टीम।

बिहार एक्साइज डिपार्टमेंट में मोतिहारी जिले के सुपरिटेंडेंट अविनाश प्रकाश के खिलाफ सुबह-सुबह स्पेशल विजिलेंस यूनिट (SVU) ने छापेमारी शुरू कर दी है। पटना समेत बिहार में तीन जिलों के अंदर भ्रष्टाचार करने वाले अधिकारी का ठिकाना है और इनके हर एक ठिकानों को SVU की टीम ने खंगालना शुरू कर दिया है।

उत्पाद अधीक्षक के पैतृक जिला खगड़िया स्थित उनके आवास पटना स्थित आवास और मोतिहारी स्थित किराए के मकान तथा कार्यालय में छापेमारी चल रही है। मोतिहारी में SVU की 8 सदस्य टीम सुबह 8:00 बजे पहुंची। टीम ने सभी जगहों पर एक साथ रेड किया। हालांकि इस दौरान उत्पाद अधीक्षक छुट्टी पर थे उनके गार्ड चाबी मंगा कर SVU की टीम ने किराए के मकान में भी छापेमारी की है। टीम का नेतृत्व SVU के डीएसपी ध्रुव कुमार सिंह कर रहे हैं। हर टीम को DSP लेवल के अधिकारी लीड कर रहे हैं।

बिहार एक्साइज डिपार्टमेंट में मोतिहारी जिले के सुपरिटेंडेंट का पटना स्थित आवास।
बिहार एक्साइज डिपार्टमेंट में मोतिहारी जिले के सुपरिटेंडेंट का पटना स्थित आवास।

अविनाश प्रकाश पर शराब माफियाओं का साथ देने की शिकायत लगातार मिल रही थी। जबकि, इनके कंधों पर बिहार सरकार के पूर्ण शराबबंदी कानून को लागू कराने की जिम्मेदारी थी। शराब माफियाओं के खिलाफ इन्हें सख्ती बरतनी थी और ठोस कार्रवाई करनी थी। मगर, यह उल्टा काम कर रहे थे।

खगड़िया स्थित आवास पर चल रही है छापेमारी।
खगड़िया स्थित आवास पर चल रही है छापेमारी।

मदद करने की एवज में मिल रही थी मोटी रकम
इनकी मिली भगत से शराब माफिया अपना अवैध कारोबार जमकर कर रहे हैं। साथ ही मदद करने की एवज में शराब माफिया अविनाश प्रकाश को मोटी रकम दे रहे थे। SVU के ADG नैयर हसनैन खान ने जमकर ब्लैक मनी कमाने वाले इस भ्रष्ट अधिकारी के खिलाफ इंटरनल जांच करवाई थी। जिसमें शराब माफियाओं का साथ देने की बात सही साबित हुई।

मोतिहारी आवास के बाहर मौजूद टीम।
मोतिहारी आवास के बाहर मौजूद टीम।

7 दिसंबर को FIR
इसके बाद 7 दिसंबर को पटना में SVU ने under section 13(2) r/ w 13(1)( b) of Prevention Of Corruption Act 1988 के तहत 7 दिसंबर को FIR दर्ज किया। स्पेशल निगरानी कोर्ट से इनके ठिकानों को खंगालने के लिए सर्च वारंट हासिल किया और आज सुबह से कार्रवाई शुरू भी कर दी गई, जो शाम तक चलने की संभावना है। गौरतलब है कि बिहार में जहरीली शराब पीने से हो रही लोगों की मौत के बाद से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आदेश पर शराब माफियाओं और इनकी मदद करने वालों के खिलाफ सख्ती बढ़ा दी गई है।