पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Tejpratap Question Regarding Women Role In Rjd; Rjd Women Leaders Support Tejpratap; Bihar Rjd Latest News

तेज प्रताप ने RJD में महिला अधिकारों का सवाल उठाया:नेत्रियां बोलीं- पार्टी में महिलाओं का पहले से महत्वपूर्ण स्थान रहा है, ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को जोड़ने का लक्ष्य

पटना3 महीने पहलेलेखक: प्रणय प्रियंवद
  • कॉपी लिंक
रितु जायसवाल, प्रवक्ता, राजद। - Dainik Bhaskar
रितु जायसवाल, प्रवक्ता, राजद।

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के स्थापना दिवस के मंच से लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने पार्टी में महिलाओं को जगह देने की वकालत की है। सियासी गलियों में सवाल उठने लगा है कि तेज ने अपनी बात रखने के लिए पार्टी स्थापना दिवस का मंच ही क्यों चुना?

तेज ने कार्यकर्ताओं-नेताओं से हाथ उठवाकर वोटिंग भी करवा दी। भास्कर ने राजद की तीन महिला नेत्रियों रितु जायसवाल, उर्मिला ठाकुर और सेवा यादव से पार्टी के अंदर महिला अधिकारों को लेकर बात की। रितु जायसवाल ने कहा कि राजद से ज्यादा महिलाओं को जोड़ना लक्ष्य है।

पार्टी की प्रवक्ता रितु जायसवाल का अनुभव

RJD प्रवक्ता रितु जायसवाल ने कहा कि 'नीतीश कुमार राजनीति में महिला सशक्तीकरण की सिर्फ बात करते हैं। महिलाओं की आड़ में पुरुषों को इंपावर करते हैं। उन्होंने कहा कि पहले JDU में थी और मुझे 2019 में लोकसभा चुनाव के लिए टिकट देने के लिए बुलाया गया, लेकिन मैं आरसी टैक्स देने में समर्थ नहीं थी। इसलिए पहले डॉ. वरुण कुमार को टिकट देने की बात आई और फिर उनका टिकट काटकर सुनील कुमार पिंटू को दिया गया। इसके बाद RJD के नेता तेजस्वी यादव ने मुझे बुलाकर विधानसभा चुनाव का टिकट परिहार से दिया। टिकट देने में RJD ने किसी तरह की टैक्स की बात नहीं की।

वह कहती हैं- ' नीतीश सरकार के दिन पूरे हो गए हैं। इस सरकार में अपराध बढ़ने पर सबसे ज्यादा प्रताड़ित महिलाएं ही हो रही हैं।'

5 जुलाई को पार्टी के स्थापना दिवस समारोह में आप पटना में दिखी नहीं? इस सवाल के जवाब में रितु कहती हैं कि परिहार के कई पंचायतों में बाढ़ की तबाही शुरू हो गई है, इसलिए मुझे लोगों के बीच मदद के लिए उन इलाकों में जाना पड़ गया था।

भगवतिया देवी को संसद भेजा थाः उर्मिला ठाकुर

RJD महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष उर्मिला ठाकुर कहती हैं कि पार्टी में महिलाओं को सम्मान नहीं मिलता तो मुझ जैसे नाई समाज की बेटी को महिला प्रकोष्ठ का अध्यक्ष नहीं बनाया जाता। अभी महिलाओं के लिए पहले से निर्धारित ऑफिस की जगह कॉन्फ्रेंस रूम बनाया गया है। महिलाओं को अलग जगह जरूर दी जाएगी।

कहा कि पार्टी ने मुझे खगड़िया से टिकट दिया था। पत्थर तोड़ने वाली भगवतिया देवी को लालू प्रसाद ने संसद भेजा था। लालू-राबड़ी की सरकार में ही महिलाओं को खास अवकाश दिया गया था।

प्रवक्ता सेवा यादव ने महिला प्रकोष्ठ अध्यक्ष को जिम्मेवार माना

प्रवक्ता सेवा यादव ने कहा कि महिलाओं के बैठने वाले कमरा को कॉन्फ्रेंस कमरा बना दिया गया है, लेकिन जल्द नया कमरा महिलाओं को मिलेगा।

उन्होंने कहा कि महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष को मंच पर जगह दी गई थी। उन्हें चाहिए था कि प्रदेश अध्यक्ष या मंच संचालक को महिला प्रकोष्ठ पदाधिकारियों की सूची सौंपती। पहले भी ऐसा हुआ है कि वे मंच से बाकी महिला पदाधिकारियों का नाम नहीं लेती हैं।

तेजस्वी यादव ने फिर से मांगी माफी

स्थापना दिवस समारोह में तेज प्रताप यादव के बोलने के बाद तेजस्वी यादव की बारी आई और तेजस्वी यादव ने कहा कि मैं छोटा हूं। इस नाते मुझसे कोई गलती हो गई हो तो माफी मांगता हूं। चुनाव के समय भी तेज प्रताप यादव ने लालू-राबड़ी के 15 साल की गलतियों के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगी थी।

आयोजन में तेजस्वी ने कहा भी कि राष्ट्रीय जनता दल सिर्फ यादव-मुस्लिम की पार्टी नहीं है, लोग इस बारे में दुष्प्रचारित करते हैं। यह पार्टी सभी की है।

JDU ने कहा- परिवारवाद तक सिमटा महिला सशक्तीकरण

तेज प्रताप यादव के सवाल पर JDU नेता और पूर्व मंत्री नीरज कुमार कहते हैं कि जिस लालूवाद नाम की विचारधारा की बात की जाती है। उसकी बुनियादी शर्त दो है- पहला परिवारवाद और दूसरा भ्रष्टाचार। वे कहते हैं कि महिलाओं को स्थान देने की बात तो लोहिया के समाजवाद में है। लालूवाद में हरगिज नहीं।

दिल्ली में भी लालू प्रसाद के दोनों तरफ उनके घर की ही महिलाएं राबड़ी देवी और मीसा भारती दिखीं। कांति सिंह से तो लालू प्रसाद ने टिकट के बदले जमीन ही लिखवा ली थी। इसलिए तेजप्रताप यादव जो सवाल उठा रहे थे, वह लालूवाद की स्वाभाविक परिणति है।

खबरें और भी हैं...