पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • The Price Of Diesel Reached An All time High; Industry Said Reduce VAT And Excise Duty, Government

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महंगाई बढ़ने की आशंका:डीजल की कीमत अब तक के अधिकतम स्तर पर पहुंची; उद्योग जगत ने कहा- वैट और एक्साइज ड्यूटी कम करे सरकार

पटना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • राज्य में पेट्रोल ने भी इस सप्ताह वित्तीय वर्ष के उच्चतम स्तर को छुआ, कीमत 88.78 रु. लीटर, डीजल 81.65 रु. प्रति लीटर

राज्य में इस वित्तीय वर्ष के अधिकतम दर पर पहुंचने के बाद पेट्रोल की कीमत 33 पैसे और डीजल की कीमत 31 पैसे कम हुई। 22 से 29 जनवरी तक लगातार हो रही वृद्धि के बाद 8 दिनों में पेट्रोल की कीमत 1.40 रुपए बढ़ कर 89.11 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गई थी, जो इस वित्तीय वर्ष की अधिकतम दर है।

वहीं आठ दिनों में 1.44 रुपए बढ़कर डीजल की कीमत भी इस वित्तीय वर्ष की अधिकतम दर 81.96 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गई थी। पर डीजल की यह कीमत राजधानी में आजतक के अधिकतम दर 81.18 रुपए प्रति लीटर से अभी भी 47 पैसे ज्यादा है। वहीं पेट्रोल पटना में आज तक की अधिकतम दर से अभी 1.41 रुपए कम है।

पेट्रोल की पटना में आज तक की सबसे अधिकतम दर 4 अक्टूबर 2018 को 90.19 रुपए प्रति लीटर थी। आठ दिनों तक बढ़ने के बाद शनिवार को पेट्रोल की कीमत 33 पैसे कम होकर 88.78 रुपए और डीजल की 31 पैसे कम होकर 81.65 रुपए प्रति लीटर हो गई।
कैसे होता है महंगे डीजल का असर
ट्रांसपोर्टेशन की लागत में 65% हिस्सा डीजल का होता है। 20-25% हिस्सा मेंटनेंस, लोन की किस्त आदि का होता है। 10% में अन्य खर्च होते हैं। डीजल के दामों में हा़े रही बढ़ोतरी का असर माल ढुलाई और वाहनों के भाड़े पर पड़ेगा। जिसका सीधा असर महंगाई पर पड़ेगा। फल और सब्जी के साथ जरूरत की हर सामान के दाम भी बढ़ जाएंगे। जिला ट्रक ओनर एसोसिएशन के अध्यक्ष धनंजय सिंह ने बताया कि डीजल के दाम बढ़ने से ट्रांसपोर्ट की लागत बढ़ जाएगी, मजबूरी में डीजल के बढ़े दाम के अनुपात में भाड़ा बढ़ाना पड़ेगा।

इस दर से वसूला जाता है टैक्स
पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों का महंगाई पर पड़ने वाले असर को ध्यान में रखते हुए उद्योगपतियों और व्यवसायी वर्ग ने राज्य सरकार से वैट घटाने की मांग की है। साथ ही केंद्र सरकार से एक्साइज ड्यूटी कम कर ईंधन की कीमतों में राहत देने की मांग की है। बिहार में पेट्रोल का बिक्री मूल्य 65 रुपए प्रति लीटर से अधिक होने पर 22% वैट लगता है, अन्यथा 26% वैट वसूला जाता है। वहीं डीजल की कीमत 64 रुपए प्रति लीटर से अधिक होने पर वैट दर 15% होता है, अन्यथा 19% वैट लगाया जाता है।

राज्य में बढ़ रहे पेट्रोल डीजल की कीमत कम करने के एकमात्र उपाय वैट की दर में कटौती है। -रामलाल खेतान, अध्यक्ष, बिहार इंडस्ट्रीज एसोसिएशन
ईंधन की बढ़ी कीमतों से महंगाई बढ़ेगी। सरकार को टैक्स में कमी कर जनता को राहत देनी चाहिए। - पीके अग्रवाल, अध्यक्ष, चैंबर ऑफ कॉमर्स

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

    और पढ़ें