तेजस्वी-राजश्री के रिसेप्शन पर भी कोरोना संकट:अब जान-पहचान वाले लोग गिफ्ट के साथ शुभकामना देने पहुंच रहे हैं घर

पटना10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शादी के बाद से ही तेजस्वी- राजश्री से मिलने वालों का तांता लगा रहता है। इस क्रम में उनके बड़े मामा और बड़ी मामी भी उनसे मिलने पहुंची थीं। - Dainik Bhaskar
शादी के बाद से ही तेजस्वी- राजश्री से मिलने वालों का तांता लगा रहता है। इस क्रम में उनके बड़े मामा और बड़ी मामी भी उनसे मिलने पहुंची थीं।

बिहार में कोविड प्रोटोकॉल लागू होने के बाद नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की शादी का प्रीतिभोज भी फिलहाल टल गया है। खरमास के बाद यह कब होगा, निश्चित नहीं है। शादी के बाद प्रीतिभोज के सवाल पर तेजस्वी यादव ने कहा था कि किसी बड़े जगह पर यह आयोजन किया जाएगा, क्योंकि भैया तेज प्रताप यादव की शादी के समय वेटरनरी कॉलेज ग्राउंड छोटा पड़ गया था।

प्रीतिभोज हो और 50 लोग ही बुलाए जाएं, यह ठीक नहीं होगा

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की शादी का प्रीतिभोज हो और उसमें कोविड प्रोटोकॉल के तहत 50 लोग ही बुलाए जाएं तो सोचिए कैसी स्थिति होगी। लालू प्रसाद की बेटियों से जुड़े सारे परिवार ही आ जाएं तो यह सौ लोगों से कम नहीं होगा। शादी में काफी कम लोगों को बुलाया गया था। लालू प्रसाद के भाई और भाभी भी जल्दी में हुई शादी की वजह से पटना से दिल्ली नहीं जा पाए थे। इसलिए इस बार तो सबको पहले से न्योता ही नहीं देना होगा, बल्कि उसकी पुख्ता तैयारी भी करनी होगी। लालू परिवार इसे खुशी से करना भी चाहता है और संभव है खरमास के बाद यह आयोजन किया जाए, लेकिन समर्थक अभी से डरे हुए हैं कि 21 जनवरी के बाद भी कोरोना आगे कौन सा रूप धारण करता है। कहा जा रहा है कि तीसरे फेज में कोरोना का पीक आना अभी बाकी है।

शुभकामनाएं देने के लिए प्रीतिभोज का इंतजार नहीं

तेजस्वी यादव और राजश्री की शादी का प्रीतिभोज क्या गांधी मैदान में होगा, इसको लेकर कयास भी लगाए जा रहे हैं, क्योंकि इतनी बड़ी जगह पटना में दूसरी नहीं। परंपरानुसार शादी जैसे आयोजन के लिए यह नहीं दिया जाता है। तेजस्वी यादव के शुभचिंतक शुभकामनाएं देने के लिए प्रीतिभोज का इंतजार भी नहीं कर रहे। बल्कि, राबड़ी देवी के आवास पर जाकर शुभकामना के साथ गिफ्ट भी ले जा रहे हैं। प्रीतिभोज फिर कभी खा लेंगे।

खबरें और भी हैं...