पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बाल विवाह के खिलाफ हुए ग्रामीण:दानापुर में घर से निकल रही बारात को पुलिस ने रोका, परिजनों को समझाकर बाल विवाह रूकवाया, ग्रामीणों ने किया सहयोग

पटना23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बारात निकलने से पहले परिजनों को समझाती पुलिस। - Dainik Bhaskar
बारात निकलने से पहले परिजनों को समझाती पुलिस।

शाहपुर थाना क्षेत्र के गोरगावां गांव में प्रशासन की त्वरीत कार्रवाई से एक नाबालिग लड़के की शादी होने से बच गई। शनिवार की देर शाम घर से जैसे ही बारात रवाना होने वाली थी। वैसे ही सूचना पर पहुंचे शाहपुर पुलिस और दानापुर के राजस्व अधिकारी सौरव कुमार ने बारात को रोककर परिजनों को समझाकर नाबालिग की शादी होने से रोक दिया। बाल विवाह के खिलाफ ग्रामीण एकजुट हो गए।

सूचना मिलते ही पहुंची पुलिस

राजस्व अधिकारी सौरव कुमार ने बताया कि ग्रामीणों से सूचना मिली कि गोरगावां निवासी बैजनाथ पासवान अपने 13 वर्षीय बेटे सिद्धनाथ पासवान की शादी कर रहे हैं। थोड़ी ही देर में बारात नौबतपुर थानार्तगत चिरौरा बादीपुर के लिए जा रही है। उन्होंने तुरंत एक्शन में आते हुए शाहपुर पुलिस के साथ मौके पर पहुंच बारात जाने से रोक दिया और परिजनों को बाल विवाह की कानूनी कार्रवाई के बारे में बताया। इसके बाद परिजनों को समझा बुझा कर शादी रोकी गई। वहीं मौके पर मौजूद नाबालिग लड़के की दादी पार्वती देवी और मां संगीता देवी ने बताया कि लड़के का दादा मोगल पासवान काफी बीमार रहते हैं। उनकी इच्छा पोते की शादी देखने को थी।

बड़े बेटे ने शादी से किया इनकार
शादी बड़े लड़का 21 वर्षीय शिव कुमार का होना था मगर वह शादी से इनकार कर दिया था। तभी छोटे बेटे सिद्धनाथ की शादी तय कर दी गई। और शनिवार को शादी करनी थी। मगर प्रशासन व पुलिस के समझाने से वह समझ गई है कि बाल विवाह जुर्म के साथ गलत भी है। अब वह पुत्र के बालिग होने पर ही शादी करेगी। वही, वहां मौजूद जमालुद्दीनचक पंचायत की सरपंच देखी देवी ने भी परिजनों को बाल विवाह नहीं करने को लेकर काफी समझाया।

खबरें और भी हैं...