• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Viral Video Of Two Daughters Outside Patna AIIMS Saying Their Covid Patient Father Died Due To Negligence

पटना AIIMS पर बेटियों के आरोप:कहा - मेरे पापा को भूखे मार डाला; AIIMS ने कहा- झूठ बोल रही लड़कियां

पटना6 महीने पहले
पटना AIIMS से अपनी आपबीती बताती वैष्णवी और मोना सिंह नामक दो बेटियां।

एक वीडियो वायरल हो रहा है। पटना AIIMS के बाहर से दो बेटियों ने इसे बनाया है। वैष्णवी और मोना सिंह नामक दो बेटियां अपने पापा और खुद की आपबीती बता रही हैं और वीडियो को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शेयर करने की अपील कर रही हैं। वे बता रही है कि उनके पापा थर्ड फ्लोर पर C-3 A वार्ड में भर्ती थे। वह AIIMS और ट्रॉमा सेंटर को बैकग्राउंड में दिखा रही हैं। बता रही है कि उसके भाई भी पॉजिटिव हैं और मां की भी तबियत खराब है। वह पापा का डेथ सर्टिफिकेट दिखा कर आरोप लगा रही है कि इसमें कई बातें झूठ लिखी हुई हैं। उन्हें हाइपरटेंशन का मरीज बना दिया। कह रही हैं कि उनके पापा के साथ जो हुआ वह और किसी के पापा के साथ न हो इसलिए वीडियो बना रही हैं।

दोनों बेटियों ने क्या-क्या आरोप लगाया है वह उनकी जुबानी सुनिए

वे बता रही हैं कि पटना AIIMS में थर्ड फ्लोर पर उनके पापा एडमिट थे। "पापा को कोविड था। पहले हमलोगों ने उन्हें प्राइवेट अस्पताल में एडमिट किया था। वहां ऑक्सीजन की कमी की वजह से यहां किसी तरह 15 तारीख की रात साढ़े 10 बजे एडमिट हुए। दूसरे दिन से रोज हमलोग पूछते थे कि पापा ने खाना खाया कि नहीं? एक दिन पापा ने बताया कि शाम 5 बज रहे हैं और सुबह से 10 बार हाथ-पैर जोड़े, पर बेटा कोई खाना नहीं देता है। प्यास लगती है बेटा, पर कोई पानी नहीं देता है। मैंने नर्स को फोन कर कहा कि मेरे पापा को पानी पिला दीजिए। मुझे बताया जाता कि खाना और पानी दिया जा रहा है, लेकिन मेरे पापा को समय से खाना-पानी नहीं दिया जा रहा था। दो-दो बार बीपी की दवा हमलोगों ने पहुंचाई पर उन्हें नहीं दिया। खाना के बिना मेरे पापा को मार दिया गया।"

"मुझे प्राइवेट अस्पताल में कहा गया था कि सिर्फ ऑक्सीजन और खाना-पीना इन्हें ठीक से मिलेगा, तो ठीक हो जाएंगे क्योंकि ज्यादा इंफेक्शन नहीं है। लेकिन उन्हें नॉर्मल खाना भी नहीं दिया। उन्हें भूखे रख कर मार दिया। यहां कोई भगवान नहीं है, सब हैवान हैं।"

"मैं एक दिन एक वार्ड ब्वाय की मदद से चुपके से PPE किट पहन कर अंदर गई तो ऐसी चीजें देखी कि बता नहीं सकती। मेरे पिता बेहोश थे। मेरे पिता को पागल कर दिया। उनके सिर पर दाग था। उन्हें बांध दिया था और ताकत नहीं थी कि वे खुद से पानी ले पाते। उनका मोबाइल साइलेंट कर आलमारी में रख दिया गया। पिछ्ले दो दिन उनको खाना पहुंचाया था उसे भी नहीं दिया गया। दोनों बोलत भी पैक्ड। अगर आप लोगों को टच नहीं करना था...तो घर वालों को बोलिए, आकर खिलाएं। सबसे बड़ी बात कि उनकी BP की दवा किसी ने नहीं चलाई। उनको हर्ट की पहले कोई प्रॉब्लम नहीं थी। अचानक से हर्ट स्लोडाउन हो गया। मैं जब गई तो एक फोटो दी सांई बाबा की। वे फोटो को लेकर हैलो.. हैलो करने लगे। ऐसे वे वहां पागल बन गए।"

AIIMS ने वीडियो को मनोबल गिराने वाला, आरोपों को झूठ बताया

पटना AIIMS के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉक्टर सीएम सिंह ने ऐसे वीडियो को स्वास्थ्य व्यवस्था का मनोबल तोड़ने वाला बताया है। उन्होंने भास्कर से कहा कि दोनों लड़कियों द्वारा उनके पिता को खाना नहीं देने के आरोप तथ्यों से परे हैं। हमारे यहां डाइटीशियन और हेल्थ इंस्पेक्टर की निगरानी में सभी कोविड मरीजों को आम मरीजों की तुलना में दुगना पोषक आहार दिया जा रहा है। उनके पिता को इमरजेंसी की स्थिति में NIV मास्क लगाया गया था, इस वजह से सॉलिड फ़ूड नहीं दिया जा सकता। उन्हें इंजेक्शन के माध्यम से लिक्विड फ़ूड दिया जा रहा था। ऐसे वीडियो को सोशल मीडिया से हटवाने की तत्काल कार्रवाई की जानी चाहिए।

खबरें और भी हैं...