पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Firecrackers Are Sold At Every Street Market In Patna Despite Ban : Bihar Local News

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

धुएं में उड़ा पटाखा बैन का आदेश:पटना के हर गली-मोहल्ले में बिक रहे पटाखे, देख कर भी पुलिस कर रही अनदेखी

पटना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रोक के बावजूद बोरिंग कैनाल रोड में धड़ल्ले से बिक रहे पटाखे। - Dainik Bhaskar
रोक के बावजूद बोरिंग कैनाल रोड में धड़ल्ले से बिक रहे पटाखे।
  • एनजीटी ने वायु प्रदूषण के स्तर को नियंत्रित करने को लेकर लगाई है रोक
  • प्रशासन की नाक के नीचे पटाखों का कारोबार जारी

एनजीटी (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल) ने माना है कि राजधानी पटना की हवा जहरीली है। वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए एनजीटी ने पटना सहित प्रदेश के कई शहरों और कस्बों में पटाखों की बिक्री पर पाबंदी लगा दी है। 10 नवंबर से लेकर 30 नवंबर तक लगी इस रोक के बाद भी दुकानें सजी हैं और पटाखे फोड़े जा रहे हैं। मतगणना के बाद नेताओं के चुनावी जश्न से शुरू हुआ आतिशबाजी का सिलसिला दिवाली तक जारी है।

कागजों में लग गई पाबंदी, शाम होते फूट रहे पटाखे
पटना में प्रशासन ने कागजों में पाबंदी लगा दी है, जबकि शहर के पॉश इलाकों में भी दुकानें सजी हैं। पटाखों का इस्तेमाल बिना रोक-टोक किया जा रहा है। दैनिक भास्कर ने जब एनजीटी के आदेश पर प्रशासन की सख्ती जाननी चाही तो देखा पटना सिटी से लेकर शहर के अन्य मोहल्लों में पटाखों बिक्री हो रही है।

खतरनाक है पटना की हवा, मनमानी पड़ेगी भारी
एनजीटी ने दिवाली पर वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए सोमवार को सख्त फैसला लिया है। 10 नवंबर से 30 नवंबर तक बिहार के पटना, मुजफ्फरपुर, गया, दिल्ली-एनसीआर के साथ उन सभी शहरों/कस्बों में पटाखे बेचने और इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई है, जहां पिछले साल नवंबर में हवा विषैली थी। फैसले को लेकर एनजीटी अध्यक्ष जस्टिस एके गोयल ने कहा, हमारे देश में खुशी जाहिर करने के लिए पटाखे जलाए जाते हैं, न कि किसी की मौत या बीमारियों का जश्न मनाने के लिए। कोरोना काल में पटाखे जलाने पर प्रदूषण बढ़ेगा तो संक्रमण का खतरा भी। इसकी अनदेखी नहीं की जा सकती। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने सबसे प्रदूषित 122 शहरों के नाम एनजीटी को देकर पटाखों की बिक्री रोकने की सिफारिश की थी, जिसमें पटना भी संवेदनशील शहरों में से एक था।

बोरिंग कैनाल रोड में पंचमुखी मंदिर के पास रोक के बावजूद बाजारों में बिक रहे पटाखे।
बोरिंग कैनाल रोड में पंचमुखी मंदिर के पास रोक के बावजूद बाजारों में बिक रहे पटाखे।

दैनिक भास्कर की पड़ताल में आदेश की खुली पोल
एनजीटी के आदेश को लेकर जब दैनिक भास्कर ने पड़ताल की तो सच्चाई सामने आ गई। पटना में शाम होते ही हर दस मिनट पर पटाखों की आवाज आ रही है। जब पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दी गई है तो लोगों को पटाखे मिल कहां से रहे हैं, इस सवाल के जवाब में जब दैनिक भास्कर की टीम ने पड़ताल की तो चौंकाने वाला खुलासा हुआ। पटना सिटी के खाजेकलां, मछरहट्‌टा, पूरब दरवाजा और वश्चिम दरवाजा के साथ बोरिंग रोड, बोरिंग कैनाल रोड, न्यू मार्केट, नाला रोड, दीघा, राजा बाजार, राजीवनगर के साथ अन्य बड़े बाजारों-मोहल्लों में पटाखों की दुकानें सजी दिखीं।

कौन करा रहा एनजीटी के आदेश का अनुपालन
एनजीटी के आदेश का अनुपालन कौन करा रहा है। यह बड़ा सवाल है। जिला प्रशासन को इस आदेश का अनुपालन कराना था, लेकिन वह इसे लेकर गंभीर नहीं है। सवाल यह है कि जब जिला प्रशासन ने आदेश ही नहीं दिया और ना ही किसी को अस्थायी लाइसेंस दिया तो पटाखा बेचा कैसे जा रहा है।

पाटलिपुत्रा के अल्पना मार्केट में रोक के बावजूद बाजारों में बिक रहे पटाखे।
पाटलिपुत्रा के अल्पना मार्केट में रोक के बावजूद बाजारों में बिक रहे पटाखे।

पुलिस की मिलीभगत तो नहीं
पटाखों की बिक्री और आतिशबाजी को लेकर अब पुलिस पर सवाल खड़े हो रहे हैं। पुलिस को ही एनजीटी के आदेशों के अनुपालन में कार्रवाई करनी है, लेकिन कोई भी थाना ऐसा नहीं है, जिस क्षेत्र में पटाखों की बिक्री नहीं हो रही हो। हर क्षेत्र में दुकानें सज गई हैं और पटाखे बिना रोक-टोक बेचे और फोड़े जा रहे हैं।

इस बार भी हो रही अनदेखी
एनजीटी के आदेश के बाद भी पटना में पटाखों की दुकानों को लेकर अनदेखी की जा रही है। बोरिंग कैनाल रोड बुद्धा कॉलोनी और एसके पुरी थाना से सटे हैं। इसके बाद भी बोरिंग कैनाल रोड पर पटाखों की आधा दर्जन से अधिक दुकानें लगी हैं। पाटलिपुत्रा के अल्पना मार्केट में भी खूब दुकानें सजी हुई हैं, कहीं कोई रोक-टोक नहीं है।

भागलपुर में बिना लाइसेंस के बेचे जा रहे पटाखे

भागलपुर में बिना लाइसेंस के ही पटाखे धड़ल्ले से बिक रहे हैं। अनुमण्डल पदाधिकारी कार्यालय में पूछताछ के दौरान बताया गया कि 12 नवम्बर तक आचार संहिता लागू थी। 14 नवम्बर को दीपावली है। इसलिए लाइसेंस देने के लिए बस एक दिन ही शेष रह गया था। अबतक किसी को भी लाइसेंस नहीं दिया गया है। बताया कि बाजार में जो दुकानदार पटाखे बेच रहे हैं, वे अवैध रूप से बेच रहे हैं। इधर, आवेदकों का कहना था कि आवेदन लेने का समय मात्र कुछ घंटे ही क्यों दिए गए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser