• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Worship Of Mother Katyayani On The Sixth Day Of Shardiya Navratri, Echo Of Mother's Cheers

बिहार के प्रमुख देवी मंदिर से देखिए मां की आरती:शारदीय नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा, माता के जयकारों की गूंज

पटना2 महीने पहले

नवरात्रि के छठे दिन शनिवार को मां कात्यायनी की पूजा की जा रही है। सुबह से ही मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी है। माता के जयकारों से पूरा मंदिर परिसर गूंज उठा। लोगों ने पूरे विधि-विधान व वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच मां दुर्गा के छठे स्वरुप मां कात्यायनी की अराधना की।

माना जाता है कि मां कात्यायनी की पूजा से रोग, शोक, संताप, भय का नाश होता है। माता कात्यायनी का भी वाहन सिंह है। इस पर आरूढ़ होकर उन्होंने महिषासुर का वध किया। इनकी दो भुजाएं अभय मुद्रा और वर मुद्रा में हैं। अन्य दो भुजाओं में खड्ग और कमल है। स्कंद पुराण के अनुसार मां कात्यायनी परमेश्वर के नैसर्गिक क्रोध से उत्पन्न हुई थीं। महर्षि कात्यायन की तपस्या से प्रसन्न होकर आदि-शक्ति ने उनके यहां पुत्री के रूप में जन्म लिया था, इसलिए वे कात्यायनी कहलाती हैं। आज हम आपको बिहार के प्रमुख दुर्गा मंदिरों से मां की आरती दिखा रहे हैं...

पटना से बड़ी पटनदेवी मंदिर, बिहारशरीफ से शीतला मंदिर, छपरा से अंबिका भवानी, गोपालगंज से थावे मंदिर, आरा से आरण्य देवी, रोहतास से ताराचंडी धाम, मधुबनी के उचैठ स्थित मिथिला शक्तिपीठ, जमुई से मां नेतुला मंदिर, मुंगेर के चंडिका स्थान से पूजा अर्चना का वीडियो...