ग्रामीणों में आक्रोश:आहर तोड़कर अवैध बालू खनन करने को लेकर विवाद

अकबरपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को आवेदन देकर खनन रोकने की मांग की है

बालू खनन के लिए आहार को तोड़ देने से विवाद शुरू हो गया है। ग्रामीणों में आक्रोश दिख रहा है। मामला थाना क्षेत्र के धनवारा गांव का है। यहां सरकारी आहर को जेसीबी द्वारा काट दिया गया। ग्रामीणों ने बताया कि बालू माफिया द्वारा अवैध खनन को लेकर सरकारी आहर को जेसीबी से काट दिया गया है।

सोमवार को ग्रामीणों ने जिलाधिकारी के पास आवेदन देकर बताया गया कि सरकारी आहर को क्षतिग्रस्त कर माफिया द्वारा बालू घाट जाने के लिए रास्ता बनाया गया। सुनील कुमार सिंह, बाल्मिकी यादव, संजय यादव, मनोज मिस्त्री, अजीत शर्मा आदि सैकड़ों ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को कहा कि गांव के ही मुकेश कुमार पिता स्व. शैलेंद्र सिंह, आदित्य कुमार पिता ललन सिंह, प्रिंस कुमार पिता स्व. रवींद्र सिंह, पंकज सिंह पिता बद्री सिंह द्वारा जबरन धनवारा स्थित बालू घाट से अवैध रूप से बालू ढ़ोने के लिए गांव का सरकारी आहर को क्षतिग्रस्त कर दिया गया हैं।

आहर के क्षतिग्रस्त हो जाने से सैकड़ों एकड़ खेत में सिचाई प्रभावित हो जायेगी। ग्रामीणों ने बताया कि आहर क्षतिग्रस्त होने से गांव में तनाव का माहौल है। बता दें कि अकबरपुर थाना क्षेत्र में इनदिनों बालू माफियाओं अवैध करोबार काफी जोरों पर हैं। पुलिस भी इन मफियाओं पर कार्रवाई करने के बजाय उनपर मेहरबान हैं। एन एच 31 पर कोयला चोरी कर बेचने का मामला हो या फिर अवैध बालू खनन का । सभी में मफिया खुलेआम प्रशासन को चुनौती दे रहे हैं।

खबरें और भी हैं...