डराने लगा कोरोना:तीन जज, स्वास्थ्यकर्मी, शिक्षिका समेत 23 नए संक्रमित; रोेकथाम को 16 कोषांग गठित

आरा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • चार दिन में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 90, आइसोलेशन सेंटर और कोविड वार्ड चयन का निर्देश

भोजपुर जिले में कोरोना के तेजी से कोरोना संक्रमण फैल रहा है। शुक्रवार को 23 नये संक्रमण का पता चला है। इनमें तीन जज, एक नामी रंगकर्मी सह शिक्षिका, स्वास्थ्यकर्मी और अन्य शामिल हैं। इसके पहले कृषि मंत्री, विधायक, प्रभारी सीएस, अधिकारी, छात्र-छात्राएं समेत अन्य लोग संक्रमित हुए। चार दिन में यह आंकड़ा 90 हो चुका। इस बीच, कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने और कांटेक्ट इंस्फेक्शन को रोकने के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट हो गया है। लोगों को संक्रमण से बचाव की सभी प्रकार की तैयारियों को जिले में एक बार फिर तेज कर दिया गया है।

इस संदर्भ में शुक्रवार को डीएम रोशन कुशवाहा ने सदर अस्पताल का निरीक्षण किया। चिकित्सा सेवा से जुड़े 16 विशेष कोषांग का गठन किया। सभी कोषांग के वरीय प्रभारी डीडीसी हरि नारायण पासवान और एडीएम कुमारमंगलम को बनाया गया है। गठित कोषांगों में ऑक्सीजन प्लांट प्रबंधन कोषांग, कोविड केयर, वैक्सीनेशन, आईईसी/ मीडिया, प्रवर्तन, मेडिकल एंड पारा-मेडिकल स्टाफ, सैनिटाइजेशन, आइसोलेशन सेंटर प्रबंधन, होम आइसोलेशन, पेसेंट मूवमेंट, सर्विलांस, माइक्रो कंटेनमेंट जोन, कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग एवं टेस्टिंग, जिला नियंत्रण कक्ष है।

इस बार पिछले कड़े अनुभव के देखते हुए ऑक्सीजन, डॉक्टर और चिकित्सा कर्मियों की इलाज के साथ-साथ उनकी ड्यूटी पर नजर रखने के लिए अलग से पहली बार कोषांग का गठन किया गया है। किसी भी आपात-स्थिति से निपटने के लिए अतिरिक्त कोविड वार्ड और आइसोलेशन सेंटर की पहचान समय से पहले कर लेने का निर्देश सभी को दिया गया है। इधर, डाक-अधीक्षक कार्यालय में कोविड-19 से संबंधित बैठक डाक अधीक्षक सिद्धेश्वर कुमार की अध्यक्षता में हुई। सभी को कोरोना संक्रमण से बचाव और सरकारी गाइडलाइन का पालन करने को कहा गया।

डीएम ने किया सदर अस्पताल का निरीक्षण, दिए कई निर्देश
शुक्रवार को आरा सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड सहित कई वार्डो का निरीक्षण डीएम रोशन कुशवाहा ने किया। इस दौरान जीएनएम स्कूल भवन में बेडों का निरीक्षण किया। इसके पहले उन्होंने सिविल सर्जन कार्यालय में डॉक्टरों के साथ समीक्षा बैठक की। जिसमें डीएम ने सीएस को निर्देश दिया कि कोविड-19 के संक्रमण के तीव्र गति से फैलाव के कारण पर्याप्त संख्या में आवश्यक दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित कर ली जाए। फ्लोमीटर, ऑक्सीजन, मास्क, कांस्ट्रेंटर सहित अन्य चिकित्सीय उपकरण की उपलब्धता सुनिश्चित कर लें।

सदर अस्पताल सहित सभी स्वास्थ्य केन्द्रों पर पर्याप्त दवाइयों के स्टॉक की नियमित जांच करते रहना है। कोरोना के इलाज के लिए सभी प्रकार की उपलब्ध दवाईयों को रखना है। जिले के विभिन्न स्वास्थ्य केन्द्रों, उपस्वास्थ्य केन्द्रों में पदस्थापित सीएचओ को कोविड-19 के मरीज का इलाज करने के लिय प्रशिक्षण की व्यवस्था करें, इससे लोगों को त्वरित सुविधा मिल सकेगी। बैठक में डीएस डा अरुण कुमार, डा बिनोद कुमार, डा प्रतीक, सरिता कुमारी, डा प्रवीण कुमार सिन्हा, डा नरेश प्रसाद, डा विकास, नागेन्द्र चौधरी सहित कई स्वास्थ्यकर्मी मौजूद थे।

3 जज समेत जिले में नये 23 संक्रमित
जिला एवं सत्र न्यायाधीश के निर्देश पर आरा न्यायालय के सभी पदाधिकारी एवं सभी कर्मी का एंटीजन कीट तथा स्वैब टेस्ट के माध्यम से जांच किया गया। इस दौरान तीन न्यायिक पदाधिकारी एवं 10 कर्मी एंटीजन कीट में पॉजिटिव पाए गए। जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव, अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश रंजीत कुमार ने बताया कि यह कोरोना जांच व्यवहार न्यायालय, आरा के साथ-साथ पीरो एवं जगदीशपुर अनुमंडल व्यवहार न्यायालय में चला। आरा शहर में शिक्षिका संक्रमित हैं।

स्वास्थ्य विभाग में भी संक्रमित
बड़हरा में एक स्वास्थ्य कर्मी समेत 4 और अन्य स्थानों पर पांच संक्रमित मिलने के साथ शुक्रवार को कुल 23 नए संक्रमित मिले हैं। बिहिया में 40 संक्रमित छात्र-छात्राओं में से 19 छात्रों को विद्यालय में ही क्वॉरेंटाइन किया गया और अन्य को घर भेज दिया गया।

खबरें और भी हैं...