तैयारी शुरू:महंत महादेवानंद महिला कॉलेज में दो दिन गीता पर सेमिनार का किया जाएगा आयोजन

आरा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सेमिनार के सफल संचालन के लिए बनायी गयी कमेटी तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटी

कोविड-19 के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए महंत महादेवानंद महिला महाविद्यालय में श्रीमद्भगवद्गीता के कर्मयोग की प्रासंगिकता विषय पर दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सेमिनार अब ऑनलाइन एवं ऑफलाइन दोनों माध्यमों से होगा। यह सेमिनार 17 एवं 18 अप्रैल को होगा। नेपाल संस्कृत विश्वविद्यालय, सोमनाथ संस्कृत यूनिवर्सिटी, बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, बीबीए बिहार यूनिवर्सिटी मुजफ्फरपुर, तिलका मांझी विश्वविद्यालय सहित देश के अन्य विश्वविद्यालय के बुद्धिजीवी अब ऑनलाइन एवं ऑफलाइन दोनों तरीके से जुड़ सकते है। शोधार्थी अपना पेपर ऑनलाइन भी प्रस्तुत कर सकते है। सेमिनार के हॉल में एक बड़ा मॉनिटर लगाया जाएगा। मॉनिटर पर शोधार्थी एवं बुद्धिजीवियों की गतिविधयां नजर आएगी। प्रभारी प्राचार्य डॉ वीणा ने बताया कि सेमिनार के सफल संचालन के लिए तैयारी अंतिम चरण में है।

इसको लेकर कई कमेटी कार्य भी कर रही है। सेमिनार में नैतिकता एवं कर्म योग, तनाव निवारण में कर्मयोग, आत्मज्ञान में कर्मयोग, सामाजिक संबंध एवं कर्मयोग, ध्यानयोग एवं कर्मयोग, आंतरिक परिवर्तन का माध्यम कर्मयोग, आधुनिक जीवन एवं कर्मयोग, व्यक्तित्व के विकास में कर्मयोग, नेतृत्व विकास में कर्मयोग, सार्थक कर्म, अधिकतम कार्योत्पादन में सहायक कर्मयोग, आनंददायी कर्म का उपकरण कर्मयोग, प्रबंधन एवं कर्मयोग, ज्ञानयोग, भक्तिमय एवं कर्मयोग पर वक्ता अपना विचार रखेंगे। गौरतलब हो कि अंतरराष्ट्रीय सेमिनार में गुजरात के श्री सोमनाथ संस्कृत यूनिवर्सिटी के कुलपति गोपाबंधु मिश्रा, नेपाल संस्कृत विश्वविद्यालय के एसोसिएट

प्रोफेसर नारायण बारल, डॉ शांतिकृष्णा अधिकारी, बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर भगवतशरण शुक्ला, त्रिभुवन विश्वविद्यालय नेपाल के डॉ सुबोध शुक्ला, लखनऊ विश्वविद्यालय के कला संकाय के डीन प्रोफेसर बृजेश कुमार शुक्ला, लखनऊ विश्वविद्यालय के संस्कृत विभाग के डॉक्टर अशोक कुमार दुबे, बीबीए बिहार यूनिवर्सिटी मुजफ्फरपुर के श्री प्रकाश पांडेय, सनातन शक्तिपीठ संस्थान के डॉ भारत भूषण पांडेय और बनारस हिन्दु विश्वविद्यालय के प्रो भगवत शरण शुक्ला ने शामिल होने के लिए अपना स्वीकृति प्रदान किया है। अपना मंतव्य सेमिनार में रखेंगे।

खबरें और भी हैं...