एडीएम की अध्यक्षता में बनी तीन सदस्यीय कमिटी:प्रखंड-पंचायत शिक्षक नियोजन में गड़बड़ी की जांच कराई जाएगी

आराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भोजपुर जिले के कई प्रखंडों में वर्ष 2019-20 के दौरान हुई शिक्षक बहाली में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की गई है। इस मामले में एक्शन लेते हुए डीएम रोशन कुशवाहा ने पूरी बहाली प्रक्रिया की जांच करने के लिए एडीएम की अध्यक्षता में 3 सदस्यों की टीम बनाई है। जांच टीम से डीएम ने 15 दिन के अंदर पूरे साक्ष्य के साथ स्पष्ट प्रतिवेदन देने का निर्देश दिया है। डीएम के इस निर्देश के बाद शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया है।

आवेदन कर्ता ने जिला शिक्षा कार्यालय के अफसर और कर्मचारियों की भूमिका पर भी सवाल उठाया है। जिले के जगदीशपुर, सहार और गड़हनी में वर्ष 2019-20 में सैकड़ों शिक्षकों की बहाली प्रखंड और पंचायत शिक्षक के पद पर हुई थी। इस दौरान बड़े पैमाने पर अनियमितता की गई है।

फर्जी प्रमाण पत्र के साथ-साथ बहाली के दौरान रोस्टर से ज्यादा, खाली स्थान नहीं रहने के बाद भी अवैध ढंग से शिक्षकों की बहाली की गई है। इस तरह का आरोप लगाते हुए आवेदन आने के बाद डीएम ने तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। जिसमें एडीएम कुमार मंगलम अध्यक्ष और 2 सदस्यों में जिला पंचायत राज पदाधिकारी जयंत जयसवाल और जिला अल्पसंख्यक पदाधिकारी रवि प्रकाश को रखा गया है। इस संबंध में एडीएम कुमार मंगलम ने बताया कि पंचायत चुनाव संपन्न हो गया है।

खबरें और भी हैं...