पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

परेशानी:सिर्फ चार वेंटिलेटर के भरोसे कोरोना मरीजों का इलाज

आरा7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच जिले के अस्पतालों में उपकरणों की कमी से हो सकती है परेशानी
Advertisement
Advertisement

कोरोना महामारी में जहां एक तरफ सरकार दावा कर रही है कि सभी अस्पतालों में वेंटिलेटर सहित अन्य सामग्री भेजे जा रहे है। इसी कड़ी में शनिवार को आरा सदर अस्पताल के आईसीयू में 4 वेंटिलेटर भेजे गए हैं। पर महज चार वेंटिलेटर से मरीजों के इलाज हो पाएगा इस पर संदेह है। बता दे कि जिले में कुल 14 पीएचसी के साथ 3 अनुमंडल अस्पताल व दो रेफरल अस्पताल है। लेकिन किसी में वेंटिलेटर नहीं है।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी भी दावा करते है कि मरीजों को हर संभव अच्छी चिकित्सा सेवा मिले इसके लिए लगातार कोशिश जारी है। लेकिन पुरे भोजपुर जिले में सिर्फ आरा के अस्पताल के लिए वेंटिलेटर आ जाने से जिले के तमाम पीएचसी,सीएचसी सहित अनुमंडल अस्पताल व रेफरल अस्पताल के मरीजों को अगर वेंटिलेटर की आवश्यकता पड़ेगी तो उन्हें सदर अस्पताल ही आना पड़ेगा। इधर डीएस ने बताया कि जहां आईसीयू है वहीं वेंटिलेटर लगाया जा सकता है। सभी जगह इसको नहीं लगाया जा सकता है।
14 पीएचसी के साथ 3 अनुमंडल अस्पताल व दो रेफरल अस्पताल
आरा, गड़हनी, चरपोखरी, अगिआंव, कोईलवर, सहार, तरारी, उदवंतनगर, बड़हरा, बिहिया सहित 14 पीएचसी है। वही अनुमंडल अस्पताल जगदीशपुर व पीरो व रेफरल अस्पताल संदेश में हैं। किसी में भी वेंटिलेटर नहीं है। यहां के चिकित्सा पदाधिकारियों के अनुसार वेंटिलेटर के लिए आईसीयू है जरूरी, बिना आइसीयू के वेंटिलेटर नहीं लग सकता है।
वेंटिलेटर से यह है फायदा
वेंटिलेटर मशीन फेफड़ों में ऑक्सीजन भेजती है। शरीर से कार्बन डाइऑक्साइड निकालती है। लोगों को आसानी से सांस लेने में मदद करती है। एक वेंटिलेटर कुछ समय के लिए प्रयोग किया जाता है। जैसे सर्जरी के दौरान जब मरीज को जनरल एनेस्थीसिया दिया गया हो।
मात्र 4 वेंटिलेटर से कैसे होगा मरीजों का इलाज
सदर अस्पताल को मात्र 4 वेंटिलेटर मिले है उससे मरीजों को इलाज कैसे संभव हो सकेगा। क्याेंकि जिले में कही भी किसी भी मरीज को वेंटिलेटर की जरूरत पड़ेगी तो उसे सीधे आरा सदर अस्पताल के आईसीयू में लाना होगा, तब जाकर इलाज होगा।

सीएस बोले- जल्द ही इंस्टॉल होंगे वेंटिलेटर

सीएस डा ललितेश्वर प्रसाद झा ने बताया कि सदर अस्पताल में सिर्फ आरा के लिए 4 वेंटिलेटर शनिवार को ओपीडी के आईसीयू में आ चुका है। संभवत: सोमवार तक वेंटिलेटर को इंजीनियर आकर कर इंस्टॉल करेंगे। उन्होंने बताया कि जिले में कही भी सरकारी अस्पतालों में वेंटिलेटर नहीं है। जहां आईसीयू रहेगा वही वेंटिलेटर लगाया जा सकता है। यह वेंटिलेटर सरकारी संस्थान बिहार मेडिकल इन्फास्ट्रक्चर काे-ऑपरेशन लिमिटेड (बीएमआइसीएल) कंपनी के तरफ से आया है। आगे स्वास्थ्य विभाग को प्रस्ताव भेजा जाएगा कि जहां तक हो सके और अस्पतालों में आइसीयू बनाकर वेंटिलेटर लगाया जाए।
आइसोलेशन वार्ड शिफ्ट हो जाएगा ओपीडी में

सदर अस्पताल के मेडिकल वार्ड में 40 बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। वार्ड में ऑक्सीजन सिलिंडर समेत कई चिकित्सकीय सुविधाएं उपलब्ध है। वेंटिलेटर आज जाने से मरीजों को सुविधा मिलने लगेगी। जल्द ही आइसोलेशन वार्ड ओपीडी में शिफ्ट कर दिया जाएगा। जिस अस्पताल में आइसीयू होगा उसी में वेंटिलेटर लगाया जा सकता है। -डा. सतीश कुमार सिन्हा, सदर अस्पताल के अधीक्षक।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement