पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

काउंसिल की बैठक:सत्र 2014-17 से पूर्व परीक्षा देने वालों को दी जाएगी डिग्री

आरा16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्नातक सत्र 2015-18 और सत्र 2016-19 वाले छात्र- छात्राओं को दिया जाएगा टेक्स्टमोनियल

डिग्री के लिए भटक रहे छात्र छात्राओं के लिए अच्छी खबर है। एकेडमिक काउंसिल की बैठक में लिए गए निर्णय के अनुमोदन को लेकर बुधवार को वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के सभागार में सिंडिकेट की बैठक बुलाई गई थी। कुलपति प्रोफेसर राजेंद्र प्रसाद की अध्यक्षता में बैठक हुई। काफी लंबे मंथन के बाद यह निर्णय लिया गया कि छात्र हित में विश्वविद्यालय डिग्री निर्गत करेगा। स्नातक सत्र 2014-17 के पहले जिन भी छात्र- छात्राओं ने

परीक्षा दिया है उनका डिग्री विश्वविद्यालय देगा। साथ ही, स्नातक सत्र 2015-18 और सत्र 2016-19 वाले वैसे छात्र-छात्राएं जिनके कॉलेज का संबंधन नहीं है और उन्होंने उस महाविद्यालय से परीक्षा दिया है उनका अभी विश्व विद्यालय की तरफ से सिर्फ टेक्स्ट मोनियल दिया जाएगा। उपरोक्त सत्र के छात्र-छात्राओं का डिग्री निर्गत करने के लिए सरकार के पास अनुरोध पत्र भेजा जाएगा।

अनुमति मिलने के बाद उन छात्र-छात्राओं को भी डिग्री निर्गत कर दिया जाएगा। छात्र कल्याण अध्यक्ष डॉक्टर सिद्धेश्वर नारायण सिंह एवं जैन कॉलेज के प्राचार्य डॉक्टर शैलेंद्र ओझा ने बताया कि छात्र हित को देखते हुए सिंडिकेट की बैठक में यह निर्णय लिया गया है। दारोगा सहित विभिन्न प्रतियोगी परीक्षा पास कर चुके छात्र-छात्राएं प्रतिदिन डिग्री लेने के लिए महाविद्यालय एवं विश्वविद्यालय का चक्कर काट रहे हैं। विकट परिस्थिति को देखते हुए विश्वविद्यालय ने आपातकाल में सिंडिकेट की बैठक बुलाया था। बैठक में सिर्फ एक ही एजेंडा रखा गया था कि जिन छात्र-छात्राओं ने परीक्षा दिया है उनको डिग्री निर्गत किया जाए।

बैठक में बिहार विधान परिषद् सदस्य संजीव श्याम सिंह, कुलसचिव डॉ धीरेंद्र प्रसाद सिंह, सीसीडीसी डॉ जमील अख्तर, परीक्षा नियंत्रक डॉ अनवर इमाम, कॉलेज इंस्पेक्टर डॉ अशोक कुमार, कुलानुशासक डॉक्टर ओपी राय, डॉ कुंदन कुमार सिंह एवंं देववंश सिंह सहित अन्य शामिल थे। सिंडिकेट की बैठक में महाराजा लॉ कॉलेज का भी मुद्दा गरमाया। सिंडिकेट सदस्य डॉक्टर नरेंद्र पालित ने एलएलबी कर रहे छात्र-छात्राओं के परीक्षा फॉर्म भरने एवं परीक्षाएं संचालित करने का विषय उठाया। वही अन्य सदस्यों ने महाराजा लॉ कॉलेज को दूसरे कॉलेज से टैग का भी प्रश्न उठाया। जिस पर कुलपति ने इस विषय को दूसरी बैठक में रखने की बात कही।

खबरें और भी हैं...