पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सम्मान समारोह:भगवान बलभद्र की जयंती पर डिप्टी सीएम को चांदी का मुकुट व तलवार से किया सम्मानित

आरा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बलभद्र जयंती पर डिप्टी सीएम को चांदी का मुकुट पहनाकर स्वागत करते ब्याहुत कलवार सेवा संघ के सदस्य। - Dainik Bhaskar
बलभद्र जयंती पर डिप्टी सीएम को चांदी का मुकुट पहनाकर स्वागत करते ब्याहुत कलवार सेवा संघ के सदस्य।
  • सड़कें व ड्रेनेज सिस्टम होंगे दुरुस्त : तारकिशोर प्रसाद

वियाहुत कलवार सेवा संघ ट्रस्ट आरा, भोजपुर के तत्वावधान में भगवान बलभद्र की जयंती सह सम्मान समारोह धूमधाम से मनाया गया। उद्घाटन डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद ने किया। संचालन सदस्य राघवेन्द्र नारायण व पंकज कुमार प्रभाकर ने किया। अध्यक्षता सत्यनारायण प्रसाद ने किया।

सुबह में भगवान बलभद्र जी की प्रतिमा के पास ट्रस्टी रामेश्वर प्रसाद, उर्मिला देवी के साथ पूजा किया। झंडोत्तोलन अध्यक्ष सत्यनारायण प्रसाद ने सदस्यों के साथ किया। मौके पर विभिन्न विधाओं से 110 लोगों को सम्मानित किया गया। जिसमें 60 ट्रस्टी, 20 कलवार समाज के सक्रिया कार्यकर्ता व 40 वैश्य समाज के लोगों को अध्यक्ष सत्यनारायण प्रसाद, पूर्व अध्यक्ष जितेन्द्र ब्याहुत ने सम्मानित किया। व्याहुत सेवा सदन में अपने संबोधन डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि वियाहुत कलवार सेवा संघ 24 साल से यह समारोह कर रहा है।

यह बहुत ही सराहनीय है। आरा की सड़क व नाली जल्द से जल्द निर्माण कराया जाएगाा। समाज के छात्र-छात्राएं अगर एकाग्रचित हाेकर पढ़ाई करें, तो भोजपुर सहित देश में उनका नाम होगा।कृषि मंत्री सह आरा के विधायक अमरेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि हल के बल में बहुत शक्ति है। यह बलभद्र जी शिक्षा मिलती है।

सीए की पढ़ाई कर रही राधा को दिए ~35,000
समाज की तरफ सीए की पढ़ाई कर रही छात्रा राधा कुमारी को 35000 का चेक डिप्टी सीएम के हाथों दिया गया। मौके पर डिप्टी सीएम को चांदी का मुकुट-तलवार जितेन्द्र कुमार ब्याहुत व पशुपतिनाथ ब्याहुत ने प्रदान किया। 80 किलो के फूल का माला भी सामूहिक रूप से डिप्टी सीएम को पहनाया गया।

मौके पर समाजसेवी पंकज प्रभाकर ने डिप्टी सीएम से मांग किया कि बंगाल सहित अन्य प्रदेशों में कलवार समाज को अनुसूचित जाति की श्रेणी में रखा जाता है। बिहार में कलवार समाज के लोगों को बीसी-2 की श्रेणी में रखा जाता है। जिसकी वजह से यहां के युवाओं को सरकारी नौकरी सहित अन्य लाभों से वंचित होना पड़ता है। हमारी मांग है कि अन्य प्रदेशों की तरह ही अपने प्रदेश में भी कलवार समाज के लोगों को अनुसूचित जाति में रखा जाए।

खबरें और भी हैं...