पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दबंगई:जमीन हड़पने के लिए मां-बेटी को पीटकर किया जख्मी, आरोपितों की तलाश में पुलिस कर रही छापेमारी

आरा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पिपरा गांव में घटना को लेकर लगी भीड़। - Dainik Bhaskar
पिपरा गांव में घटना को लेकर लगी भीड़।
  • पिपरा जयपाल गांव की घटना, गंभीर अवस्था में मां-बेटी का सदर अस्पताल में हो रहा इलाज

मुफस्सिल थाना अंतर्गत पिपरा जयपाल गांव में बलपूर्वक जमीन हड़पने के उद्देश्य से हरेंद्र सिंह नामक व्यक्ति के घर में घुसकर हमलावरों ने तांडव मचाया। हमलावरों ने पारिवारिक मर्यादाओं की भी हद पार कर दी और घर में घुसकर अंदर से दरवाजा बंद कर दिया। इसके बाद हरेंद्र की पत्नी फुलकुमारी देवी और उसकी बेटी निभा कुमारी की घातक हथियारों से निर्ममता पूर्वक काफी देर तक पीटते और प्रहार करते रहे। इस दौरान हमलावरों ने मां-बेटी को लहूलुहान कर दिया।

जान बचाने के लिए मां-बेटी घर में इधर-उधर भागती रहीं; पर हमलावर बवाल मचाते रहे। इस दौरान मां-बेटी सहित पूरे परिवार को जान मारने और गांव छोड़कर भाग जाने की धमकी दी गई। मां-बेटी के चीखने- चिल्लाने के बावजूद गांव का कोई भी व्यक्ति हमलावरों के डर से उन्हें बचाने नहीं आया।

बाद में कुछ युवकों और बुजुर्गों ने हिम्मत किया और दरवाजा तोड़कर मां- बेटी की जान बचाया। उग्र ग्रामीण हमलावरों को पकड़ने व मारने के लिए दौडे़, पर वे भाग निकले। घटना की सूचना पाकर मुफ्फसिल थाना की पुलिस पिपरा जयपाल गांव पहुंची और हमलावर के परिवार की एक महिला और उसके एक रिश्तेदार युवक को हिरासत में लेकर थाना ले आई। पुलिस ने हरेंद्र सिंह के पुत्र नीरज सिंह को भी कस्टडी में रखा।

घटना के संबंध में जख्मी हरेंद्र सिंह ने बताया कि एसपी राकेश दुबे को भी घटना की जानकारी दी गई है। सुबह में मैं टहलने के लिए गया था। तब मेरे भाई और सहयोगी मेरे घर पर आकर हमला कर दिए। जिसमें मेरी पत्नी पुत्र और पुत्री को राॅड- लाठी से हमला कर दिया। मुफ्फसिल थाना के थानाध्यक्ष अनिल कुमार सिंह ने बताया कि दोनों पक्ष से मारपीट का आवेदन आया है। हरेंद्र सिंह की पत्नी, पुत्री और पुत्र तीनों गंभीर रूप से जख्मी है। तीनों का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है।

हरेंद्र सिंह का परिवार 3 बार दे चुका पुलिस को आवेदन

हरेंद्र का परिवार इस घटना को मिलाकर तीन बार पुलिस को आवेदन दे चुका है। पहली बार करीब एक पखवारा पूर्व पुलिस को आवेदन दिया गया था। दूसरी बार जब हरेंद्र के पुत्र नीरज के साथ मारपीट की गई। तीसरी बार आवेदन इस घटना को लेकर शनिवार को किया गया।

लिखित बंटवारा और पंचनामा के बाद भी की गयी गुंडागर्दी

हरेंद्र के अनुसार स्वर्गीय कपिलदेव सिंह के 3 पुत्र ओमप्रकाश सिंह, संत कुमार सिंह और वह है। वर्ष 2002 में स्टांप पेपर पर तीनों भाइयों के बीच संपत्ति का बंटवारा हो गया है। जिस पर तीनों भाइयों का हस्ताक्षर है। पंचों में राज केशरी सिंह, श्याम नंदन सिंह, उपेंद्र सिंह व अन्य का हस्ताक्षर है। भाई ओमप्रकाश सिंह, भतीजे और उनके सहयोगी मेरी संपत्ति हड़पना चाहते हैं।

खबरें और भी हैं...