पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आरा:दूसरे संकायों की तरह बीएड में भी प्रमोट सिस्टम लागू करने की छात्रों ने उठायी मांग

आराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कई जिलों से वीकेएसयू के विद्यार्थियों ने जुटकर छात्र कल्याण अध्यक्ष डॉ केके सिंह से लगायी गुहार

अन्य वोकेशनल कोर्स की तरह बीएड के विद्यार्थियों को भी प्रमोट करने की मांग को लेकर वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय शिक्षा (बीएड) विभाग के छात्र-छात्राओं ने छात्र कल्याण अध्यक्ष डॉ केके सिंह के पास गुहार लगायी। विद्यार्थियों ने अपनी बेबसी बयां करते हुए कहा कि बीएड सत्र 2019-21 के विद्यार्थियों के साथ भेदभाव किया जा रहा है।

विभाग द्वारा सिलेबस पूरा नहीं किया गया और इधर परीक्षा विभाग द्वारा परीक्षा लेने की तैयारी की जा रही है। पटना निवासी छात्र संजीव एवं प्रेम, अरवल निवासी धनंजय प्रवीन, सुपौल निवासी रौशन कुमार एवं मधेपुरा निवासी राकेश ने बताया कि सुबह ग्यारह बजे से हम अपनी समस्याओं को लेकर परिसर में आए हुए है। कुलपति प्रो देवी प्रसाद से मिलने के लिए लगातार प्रयास कर रहे है। परन्तु हमलोगों को मिलने नहीं दिया जा रहा है।

इधर, छात्र दीपक कुमार, संजीव कुमार, प्रविंद कुमार एव नेहा राज ने कहा कि आंतरिक एवं बाह्य परीक्षा को लेकर हमलोग काफी परेशान है। विभाग के शिक्षकों के द्वारा सिलेबस भी पूरा नहीं किया गया है। पोर्टल पर नोट्स अपलोड नहीं हुआ है। ऐसी परिस्थिति में परीक्षा कैसे दिया जा सकता है। विभाग ने प्रति छात्र-छात्राओं से सुविधा के नाम पर 75 हजार रूपया शुल्क लिया है। परन्तु दुर्भाग्य की बात है कि विभाग में अप्रैल माह से न तो शिक्षक है और न ही कर्मचारी।

बिना शिक्षक एवं कर्मचारी के ही विभाग चल रहा है। इधर, बीएड विभाग के शिक्षकों ने बताया कि लॉकडाउन के उपरांत मार्च, अप्रैल एवं मई माह का नोट्स अपलोड किया गया है। जुलाई माह से विभाग का पोर्टल बंद है। प्राचार्य डॉ शैलेंद्र ओझा से अनुमति मिलने के बाद पोर्टल पर नोट्स अपलोड किया जाएगा। शिक्षक वीरेंद्र पांडेय एवं गोवर्धन यादव ने बताया कि इस दौरान बीएड पोस्ट पोर्टल प्रोग्राम लगातार अपडेट किया जा रहा है।

प्रति सेमेस्टर 75 हजार रुपए लिया गया है छात्रों से शुल्क
बीएड के विद्यार्थियों ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि हाई कोर्ट ने बीएड का अधिकतम शुल्क एक लाख 75 हजार रूपया निर्धारित किया था। कॉलेजों के इंफ्रास्ट्रक्चर के आधार पर शुल्क लेने का निर्णय कोर्ट ने दिया था। कहा गया था कि जिस कॉलेज का इंफ्रास्ट्रक्चर सबसे बेहतर होगा वह कॉलेज एक लाख 75 हजार रुपया अधिकतम शुल्क ले सकता है। परन्तु वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय का शिक्षा विभाग एनसीटीई के मानकों को कहीं से पूरा नहीं कर रहा है। विभाग में न तो शिक्षक है और न ही कर्मचारी। सुविधाओं के नाम पर विद्यार्थियों को कुछ नहीं दिया जा रहा है।

नहीं कराया गया है टूर, लिया गया शुल्क
शिक्षा विभाग के विद्यार्थियों ने बताया कि विभाग के द्वारा स्टडी टूर नहीं कराया गया जबकि नामांकन के समय ही सभी विद्यार्थियों से इसका शुल्क ले लिया गया था। प्रैक्टिस टीचिंग नहीं होने की वजह से दूसरे विद्यालयों में पढ़ाने का अनुभव भी हम सभी को नहीं मिल सका। इधर अन्य विद्यार्थियों ने बताया कि विभाग में लाइब्रेरियन नहीं होने की वजह से किताबें भी नहीं मिल पायी है।
मांगों पर नहीं होगा विचार तो होगा आंदोलन
विद्यार्थियों ने कहा कि यदि मांगों पर विश्वविद्यालय ध्यान नहीं देगा तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। कई दफा छात्र कल्याण अध्यक्ष एवं अन्य अधिकारियों से इस संदर्भ में वार्ता की गई। परन्तु इसको अनदेखा कर दिया गया। कुलपति से भी मिलने का प्रयत्न किया गया परन्तु हम सभी को मिलने नहीं दिया गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज समय बेहतरीन रहेगा। दूरदराज रह रहे लोगों से संपर्क बनेंगे। तथा मान प्रतिष्ठा में भी बढ़ोतरी होगी। अप्रत्याशित लाभ की संभावना है, इसलिए हाथ में आए मौके को नजरअंदाज ना करें। नजदीकी रिश्तेदारों...

और पढ़ें