पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Ara
  • Mother Shailputri Was Worshiped On The First Day Of Navratri, For The Long Life, Worship Of Mother Brahmacharini Will Be Done Today, Preparations Are In Full Swing

आस्था:नवरात्र के प्रथम दिन मां शैलपुत्री की पूजा हुई, लंबी आयु के लिए आज होगी माता बह्मचारिणी की पूजा, तैयारी जोरो पर

आरा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शारदीय नवरात्र का पहला दिन मां शैलपुत्री की पूजा विधि विधान से की गई। शहर के मां आरण्य देवी मंदिर, नवदुर्गा मंदिर, नाला मोड़, शिवगंज मोड़, सिंडिकेट मोड़, रेलवे स्टेशन व शहर के अन्य चौक-चौराहे पर मां दुर्गा की पूजा हुई। पूजा की शुरुआत गणेश पूजन से हुई, इसके बाद कलश स्थापना व मां के प्रथम रूप की पूजा की गई।

पूजा के दौरान कोरोना से बचाव के लिए मंदिरों में सुरक्षा की विशेष व्यवस्था की गई थी। मंदिर का पट खुलने के बाद सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क का उपयोग किया जा रहा था। कोरोना वायरस संक्रमण और विधान सभा चुनाव को देखते हुए जिला प्रशासन ने कई शर्तों के साथ कम पैमाने पर पूजा करने की अनुमति दी है। इसके वजह से मंदिरों में श्रद्धालुओं की संख्या कम रही।

महाबीर मंदिर के पुजारी सुमन बाबा ने बताया कि पौराणिक कथा के अनुसार प्रजापति दक्ष ने एक हवन का आयोजन किया था। जिसमें सारे देवी-देवताओं को आमंत्रित किया गया था। भगवान शिव और माता सती को न्योता नही भेजा था। ऐसे में माता सती ने यज्ञ में जाने का निर्णय लिया। भगवान शिव मना किए, बिना आमंत्रित के जाना उचित नही होगा। जब सती पिता के यहां पहुंची तो बिन बुलाए मेहमान की तरह व्यवहार किया गया। मां ने प्यार से बात भी नही किया। बहनों ने उपहास उड़ाया। तब सती ने क्रोध में आकर यज्ञ में कूद पड़ी।

यह समाचार भगवान शिव को मिला तो उन्होंने अपने गण को भेजकर यज्ञ को नष्ट करवा दिया। अगले जन्म में सती ने हिमालय की पुत्री में जन्म ली और तभी से शैलपुत्री नाम पड़ा। शारदीय नवरात्रि के दूसरे दिन मां दुर्गा के द्वितीय स्वरूप देवी ब्रह्मचारिणी का पूजा की जाती है। इस दिन मां ब्रह्मचारिणी को शक्कर और पंचामृत का भोग लगाना चाहिए। मान्यता है कि यह भोग लगाने से चिरायु का वरदान प्राप्त होता है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- चल रहा कोई पुराना विवाद आज आपसी सूझबूझ से हल हो जाएगा। जिससे रिश्ते दोबारा मधुर हो जाएंगे। अपनी पिछली गलतियों से सीख लेकर वर्तमान को सुधारने हेतु मनन करें और अपनी योजनाओं को क्रियान्वित करें।...

और पढ़ें