प्रशासन / नगर निगम ने नाली व सड़क सफाई की बजट में की बढ़ोतरी, पर बरसात में नहीं दिख रहा असर

X

  • प्लास्टिक से नाले जाम और पानी से सड़कें हो रही हैं खराब

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

आरा. शहर की सफाई काे लेकर नगर निगम हर माह में 55 लाख रुपये खर्च करता है। चाहे वो नाली की सफाई हो या सड़क की सफाई। इसके बावजूद भी शहर के नालाें व सड़क सही तरीके से साफ नही होता है। बरसात के मौसम में शहर की सभी छोटे-बड़े नाले जाम हो जाते है।  शहर के नाला में प्लास्टिक, बोतल व अन्य प्रकार के कचरा फेंकने से जाम हो जाता है। शहर के मौलाबाग, पकड़ी चौक, नाला मोड़, सदर अस्पताल रोड़, करमन टोला, जज कोठी, सर्किट हाउस, चंदवा, सिडिकेट, ओवर ब्रिज साउथ पावरगंज व अन्य जगहों का नाला जाम हो जाता है।

जिससे नाली का पानी उबटकर सड़कों पर आ जाता है।  बरसात के मौसम में नाली और सड़काें की स्थिति नारकीय हो जाती है। शहरवासी किसी तरह कीचड़नुमा सड़कों से गुजरने को मजबूर हैं। बरसात के मौसम में नगर निगम को शहर की साफ करने के लिए कोई नया प्लान नही है। आम दिनों की तरह ही नगर निगम बरसात में शहर की सफाई करता है।

नगर निगम में सफाई को लेकर वित्तीय वर्ष 2020-21 में 55 लाख रुपये का बजट पास किया गया था। पीछले वित्तीय वर्ष 2019-20 में को लेकर 40 लाख का बजट पास किया गया था। ताकि शहर को साफ रखा जा सके। नगर निगम को बरसात से पहले शहर में आउटफॉल नाला का निर्माण करा लेना था। लेकिन, अब शहर में ऑउटफॉल नाला का निर्माण नही हो सका है।  
सड़काें की हालत खराब
शहर में बरसात के सीजन में सड़क का बदहाल हो जाता है। बारिश और नाले का पानी सड़काें पर बहने के कारण सड़क कमजोर हो जाता है। इसके वजह से सड़क टूट जाता है। धीरे-धीरे सड़कों पर गड्ढा होना शुरु हो जाता है। जिससे सड़काें पर अक्सर दुर्घटना हो जाती है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना