पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

चुनावी मुद्दा:नेताजी! क्यों नहीं सुधर रहीं भाेजपुर की सड़कें

आरा4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पकड़ी मौला बाग रोड की जर्जर सड़क।
  • जर्जर सड़कों से होकर वोट मांगने पहुंचे माननीयों से लोग पूछने को हुए मजबूर

भोजपुर जिले में विगत एक वर्ष से सड़कों की जर्जर स्थिति का खामियाजा आम लोगों के साथ-साथ अब चुनाव कर्मियों को भी भुगतना पड़ेगा। पथ निर्माण विभाग की लापरवाही का कच्चा चिट्ठा बाहर से चुनाव कराने आ रहे अफसरों के बीच भी खुलेगी। इसे देखते हुए पथ निर्माण विभाग आनन-फानन में सड़कों में हुए गड्ढों को भरने का कार्य भी युद्ध गति से कर रही है। जैसे-जैसे सड़कों के गड्ढे भरते जा रहे हैं, ठीक उसके पीछे पीछे भरे हुए गड्ढे कई स्थानों पर उखड़ते भी जा रहे हैं। ऐसा घटिया क्वालिटी की सामग्री का उपयोग करने के कारण हो रहा है। एक वर्ष के अंदर जिले की नौ सड़कों के लिए मेंटेनेंस के नाम पर 20 करोड़ रुपए से ज्यादा की निकासी हो चुकी है। इसके बाद भी इन सड़कों पर कई जगह बड़े-बड़े गड्ढे देखे जा सकते हैं। मालूम हो पथ निर्माण विभाग के द्वारा सड़कों की स्थिति बेहतर करने के लिए नई मेंटेनेंस की नीति लाई गई थी। उसके तहत भोजपुर जिले में ओपीआरएमसी फेज दो के तहत पैकेज नंबर 34 बी में नौ सड़कों का चयन किया गया है। रंजीत कुमार कंस्ट्रक्शन कंपनी को मिले मेंटेनेंस कार्य के लिए विभाग ने 110.71 करोड़ की राशि स्वीकृत की है। राशि से इन सड़कों पर सात वर्षों तक एक भी गड्ढे नहीं रहने देना है। जबकि कोई ऐसी सड़क नहीं है, जिस पर दर्जनों गड्ढे नहीं होंगे। सड़क निर्माण के दौरान लापरवाही इस हद तक पहुंच गई है कि सड़क बनने के साथ ही एक- दो दिनों में ही बिगड़ने लगती है। चुनाव में इन्हीं जर्जर सड़कों से होकर वोट मांगने पहुंच रहे प्रत्याशियों से लोग अब पूछने को मजबूर होने लगे हैं कि बताइए नेताजी! इन सड़कों की हालत आखिर कब सुधरेंगी।

20 करोड़ की हो चुकी है निकासी गड्‌ढ़े भरने के नाम पर

जिले में पैकेज नंबर 34 बी के तहत नौ सड़कों का चयन हुआ है। इनमें आरा - सासाराम रोड 46 किलोमीटर, गड़हनी - अगिआंव रोड 6.8 किमी, नोनार करथ बिहटा रोड 22 किमी, पीरो सिकरहटा बिहटा रोड 21.60 किमी, पीरो - अगिआंव रोड नौ किमी, आरा - खेरा - सहार रोड 32 किमी, पवना कोरी संदेश 14 किमी, मुफ्ती मेला मोड़ से पेराफ रोड 12 किमी और हसन बाजार - जमोरी सरफोरा से चिकसील रोड 12 किलोमीटर है। इनमें गड़हनी-अगिआंव रोड महज 6.8 किलोमीटर में ही कई स्थानों पर टूटकर जर्जर हो गई है। कुल 9 सड़कों की लंबाई 175.914 किलोमीटर के आसपास है। इनके सात वर्षों तक मेंटेनेंस के लिए 11071 करोड़ों रुपए मंजूर किए गए हैं। पिछले साल फरवरी से ही यह योजना शुरू हुई है। फरवरी से लेकर अब तक 20 करोड़ से ज्यादा रुपए की निकासी करने के बाद भी गड्ढे जगह जगह दिखाई दे रहे हैं। जबकि ओपीआरएमसी फेज दो के तहत जीन नौ सड़कों का चयन हुआ है, यदि उनमें कहीं गड्ढे होते है तो उसे हर हाल में एक सप्ताह के अंदर भर देने का नियम है।

बोले कार्यपालक अभियंता; सड़कों पर गड्ढे की सूचना मिलते ही एक सप्ताह के अंदर उसे भरा जाता है जिले में पैकेज नंबर 34 बी के तहत चयन किए गए नौ सड़कों पर कहीं भी गड्ढा होने की शिकायत मिलते ही उसे एक सप्ताह के अंदर भरने का नियम है। सूचना मिलते ही उसे तत्काल मरम्मत करा दिया जाता है। तय समय सीमा के अंदर गड्ढा नहीं भरने पर मरम्मत करने वाली कंपनी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
- जितेंद्र कुमार, कार्यपालक अभियंता, पथ निर्माण प्रमंडल, शाहाबाद

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर जाने का प्रोग्राम बन सकता है। साथ ही आराम तथा आमोद-प्रमोद संबंधी कार्यक्रमों में भी समय व्यतीत होगा। संतान को कोई उपलब्धि मिलने से घर में खुशी भरा माहौल ...

और पढ़ें