पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परचम लहराया:युवाओं ने अपनी मेहनत के दम पर दारोगा परीक्षा में परचम लहराया

आराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग द्वारा आयोजित दरोगा की परीक्षा में इस बार शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र के युवाओं ने अपनी मेहनत के बदौलत प्रतिष्ठित पद पाने में कामयाबी हासिल किया है। गांव एवं समाज को गौरवान्वित किया है। इसके साथ ही मां बाप एवं पूरे परिवार के सपने को साकार किया है। बड़हरा प्रखंड के राम सागर निवासी अनिल श्रीवास्तव की पुत्री रितु राज ने दारोगा की परीक्षा में सफलता हासिल किया है। रितु राज की प्रारंभिक पढ़ाई डॉक्टर नेमीचंद कन्या उच्च विद्यालय से हुई है। इंटर व स्नातक की पढ़ाई महाराजा कॉलेज से किया है।

स्नातकोत्तर की पढ़ाई वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के पीजी विभाग से किया। रितु राज ने बताया कि आईजी सुनील कुमार एवं निजी विद्यालय की प्राचार्य स्वयम्बरा से प्रेरित व मार्गदर्शन के बाद मुझे यह सफलता मिली है। यवनिका संस्था द्वारा आयोजित बाल महोत्सव के प्लेटफार्म से भी बहुत कुछ सीखने को मिला। उन्होंने बताया कि 29 दिसंबर 2019 को दो पाली में पीटी की परीक्षा हुई थी। 19 दिसंबर 2020 को मेंस की परीक्षा दो पाली में

लिया गया था। वही शारीरिक परीक्षा 22 मार्च से 12 अप्रैल तक पटना में आयोजित किया गया था। वहीं, नगर पंचायत के मिल्की मुहल्ला निवासी मो फहीम अख्तर के बड़े बेटे मो सब्बीर खान ने बिहार अवर पुलिस सेवा की परीक्षा पास कर दरोगा (पुलिस सब इंस्पेक्टर) वर्दी हासिल की है। सब्बीर के पिता पीरो में रहकर साधारण मैकेनिक का काम करते थे। वर्तमान में कतर में मजदूरी करते हैं। जबकि मां शम्सेआरा खातून गृहिणी है।

सब्बीर ने पीरो के संजीव कुमार द्वारा संचालित द कैरियर प्वाइंट में पढाई कर अवर पुलिस सेवा परीक्षा की तैयारी की थी। इस सफलता का श्रेय वह संस्था के संचालक को देता है। सब्बीर की इस सफलता इस मायने में महत्वपूर्ण है कि उसने पीरो जैसे छोटे से कस्बे में सीमित साधनों के बीच अपनी मेहनत व इच्छाशक्ति के बल पर यह मुकाम हासिल की है। सब्बीर पांच भाई बहनों में सबसे बडा है।

खबरें और भी हैं...