लापरवाही:53 दिन में महज 31% धान क्रय, 4 बीसीओ का वेतन बंद

आरा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
समीक्षा के दौरान बैठक में अफसरों को निर्देश देते डीएम रोशन कुशवाहा। - Dainik Bhaskar
समीक्षा के दौरान बैठक में अफसरों को निर्देश देते डीएम रोशन कुशवाहा।

भोजपुर जिले में धान खरीदारी की गति अफसरों और पदाधिकारियों की लापरवाही के कारण रफ्तार नहीं पकड़ पा रही है। 15 नवंबर से शुरू धान खरीदारी 7 जनवरी तक लक्ष्य का महज 30.47% ही हो पाई थी। शुक्रवार को डीएम रोशन कुशवाहा के द्वारा समीक्षा में इसकी जानकारी मिलते ही उन्होंने 30% से कम खरीदारी करने वाले चार प्रखंड सहकारिता पदाधिकारी का वेतन अगले आदेश तक बंद कर दिया है। इनमें सहार, शाहपुर, तरारी और संदेश प्रखंड के बीसीओ शामिल हैं। इसके साथ ही सभी के कार्यों पर नाराजगी प्रकट करते हुए 15 जनवरी तक लक्ष्य का हर हाल में 50% धान खरीदारी करने को कहा है। सिस्टम और अफसरों की लापरवाही के कारण निबंधन कराएं 26748 किसानों में से 18627 किसान अब तक अपना धान नहीं बेच पाए हैं।

धान खरीदारी के लिए शेष बचे 38 दिनों में 69% धान की खरीदारी करना सहकारिता विभाग के लिए चुनौती बन गया है। इधर, कई राइस मिलर के द्वारा धान लेने और चावल लोड करने के दौरान मनमानी की जा रही है। इस पर डीएम ने जांच कर दोषी पाए जाने पर प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया है। मालूम हो जिले में इस बार 2.40 लाख एमटी धान खरीदारी का लक्ष्य रखा गया था, जिसमें से अब तक 73118 एमटी धान की खरीद हो चुकी है। 8121 किसानों से 73118 एमटी धान खरीदी गए हैं। जिले में निर्धारित लक्ष्य का सहार प्रखंड में 21%, शाहपुर में 26%, तरारी में 27%, संदेश में 28%, पीरो और गड़हनी में 30%, अगिआँव में 31.40%,जगदीशपुर और उदवंतनगर में 32-32%, आरा में 33.38%, बड़हरा में 34.94%, बिहिया में 36.61%, चरपोखरी में 34.53%, कोईलवार में 33% धान की ख़रीद हुई है। मौके पर जिला सहकारिता पदाधिकारी विजय कुमार सिंह समेत संबंधित विभाग के अफसर मौजूद थे।

धान खरीदारी के मुकाबले 13.65% ही मिला सीएमआर चावल
भोजपुर जिले में धान खरीदारी से भी ज्यादा खराब स्थिति सीएमआर चावल देने का है। अब तक 73118 एमटी धान की खरीदारी हो चुकी है, जिसमें से 9976 एमटी ही चावल दिया जा सका है। इस तरह कुल खरीदारी का महज 13.65% ही सीएमआर चावल गोदाम में पहुंच पाया है।

25% पैक्स में धान खरीदारी के लिए नहीं है राशि
जिले में धान खरीदारी करने के लिए कई पैक्स के पास विगत कई दिन पहले ही बैंकों से आई राशि समाप्त हो गई है। इस कारण जिले के 25% से ज्यादा पैक्स में धान की खरीदारी बंद है। बैठक में एक-दो दिनों में राशि भेजे जाने की जानकारी दी गई है।

खबरें और भी हैं...