पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोईलवर:कुल्हड़िया के महाकल्याणी मातेश्वरी मंदिर में लोगों काे मास्क के साथ ही मिलेगा प्रवेश

आरा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रखंड के कुल्हड़िया गांव के बीचों बीच स्तिथ महाकल्याणी मातेश्वरी का विशाल व भव्य मंदिर श्रद्धालुओं के अटूट विश्वास का केंद्र बना हुआ है। इस मंदिर में मां दुर्गा की भव्य प्रतिमा को सुशोभित किया गया है। श्रद्धालुओं के लिए पूजा करना अंतर्मन से उस देवी या देवता का साक्षात दर्शन प्राप्त होता है। जो यहां पर आने वाले भक्तों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं।

शारदीय नवरात्र में मां दुर्गा मंदिर में दूर-दराज से श्रद्धालु माता के दर्शन कर आशीर्वाद लेने के लिए प्रतिदिन आते रहते हैं। जहाँ माता के भक्तों की अपार भीड़ उमड़ती है। तथा पूरा मंदिर परिसर मां के जयकारों से गूंज उठता है। नवरात्रों के समय नौ दिन तक मां दुर्गा की पूजा अर्चना में सैकड़ों भक्त लीन रहते है।

मंदिर में शाम को होने वाली आरती में अनेक भक्त माता का गुणगान करते हैं। जहाँ आस पास के गांवों से भी अनेक श्रद्धालु आकर दुर्गा माता की पूजा-अर्चना करते हैं।श्रद्धालुओं का मानना है कि इस मंदिर में नवरात्रों में सच्ची आस्था के साथ आकर माता के आगे शीश झुकाकर मन्नत मांगने वाले भक्तों की मनोकामना माता शीघ्र पूर्ण करती हैं। स्थानीय लोग बताते है। 1953 में मंदिर की नींव डाली गई थी। शुरू में यह मंदिर का स्वरूप बहुत ही छोटा था। समय के साथ आस्था व पूजा अर्चना से मंदिर की रूप रेखा बदलती गयी। जिसके बाद कुल्हड़िया गांव के श्रद्धालुओं के सहयोग से भव्य मंदिर का निर्माण कराया गया। दुर्गा पूजा समिति के सदस्य बताते है नवरात्र में महाकल्याणी मातेश्वरी मंदिर को दुल्हन की तरह सजाया गया है।

मंदिर की आस्था इसी से लगाया जा सकता है कि जब भी लक्ष्मी प्रपन्न जीयर स्वामी जी महाराज इस क्षेत्र से गुजरते है। वो दुर्गा मंदिर पहुँच आरती भजन कर ही जाते है। हालांकि कोरोना काल को लेकर पूजा समिति के सदस्य एहतियात बरत रहें हैं। मन्दिर में आने वाले श्रद्धालु को गमछा व मास्क पहन आने पर ही अनुमति है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- चल रहा कोई पुराना विवाद आज आपसी सूझबूझ से हल हो जाएगा। जिससे रिश्ते दोबारा मधुर हो जाएंगे। अपनी पिछली गलतियों से सीख लेकर वर्तमान को सुधारने हेतु मनन करें और अपनी योजनाओं को क्रियान्वित करें।...

और पढ़ें